पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सड़कों पर जलभराव:मोगा-लुधियाना हाईवे पर 300 मीटर तक गड्ढे ही गड्ढे, 9 माह पहले 8 करोड़ से बनी थी सड़क

मोगा8 दिन पहलेलेखक: हरबिंदर सिंह भूपाल
  • कॉपी लिंक
  • सर्विसलेन के दोनों ओर रेन ड्रेन का सिस्टम अधूरा होने के कारण भरा बारिश का पानी

मोगा-लुधियाना हाईवे पर 300 मीटर तक सड़क टूटने से गड्ढे ही गड्ढे हैं। सर्विसलेन के दोनों ओर रेन ड्रेन का सिस्टम अधूरा होने के कारण बारिश का पानी भरने से सड़क टूट रही है। 9 महीने पहले 8 करोड़ रुपए से सड़क बनी थी। छह साल तक खस्ताहाल रहे लुधियाना-मोगा हाईवे के करीब सात किलोमीटर में अधूरे निर्माण के लिये डीसी संदीप हंस के प्रयासों के बाद पिछले साल 13 करोड़ रुपये मंजूर हुए थे। बाद में इस राशि में कट लगा हाईवे अथारिटी से आठ करोड़ रुपये की राशि ही मिल पाई थी। इस राशि से सर्विस लेन के दोनों ओर अधूरे रेन ड्रेन का काम पूरा कराने के बाद सड़क निर्माण को राशि न बचती।

ऐसे में राशि को सियासी दबाव में खस्ताहाल सर्विस लेन की सड़कों को बनाने पर लगा दिया। हालांकि डीसी ने उस समय आपत्ति जताई थी। अब सर्विसलेन पर पानी खड़ा होने के चलते सड़क दोबारा टूटने लगी है। शनिवार को हुई बारिश का पानी रविवार तक नहीं निकल पाया है। लोगों को पानी में आने-जाने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। आधे-अधूरे बने रेन ड्रेन भी कचरे का डंप बन गया है। रेन ड्रेन में बरसाती पानी के निकासी का कोई सिस्टम तक नहीं है। ऐसे में बारिश के दिन में सर्विस लेन की सड़कों पर जलभराव रहता है।

इसी रास्ते से मिनी सचिवालय और कचहरी आते-जाते हैं लोग

शनिवार को शहर में तेज बरसात हुई थी, जबकि रविवार को सुबह 10 मिनट हल्की बूंदाबांदी ही हुई, लेकिन जिला कचहरी व डीसी कार्यालय के निकट रविवार को भी सर्विसलेन पर भारी मात्रा में बारिश का पानी जमा था, जिससे लोगों को निकलने में परेशानी हो रही है। यहां बता दें कि इस रास्ते से सभी बड़े अधिकारियों, जजों, वकीलों व पुलिस वालों को निकलना पड़ता है। क्योंकि उन्हें इसी रास्ते से मिनी सचिवालय और कचहरी में आना-जाना होता है।

अब नए सिरे से भेजा गया प्रस्ताव

नेशनल हाईवे अथारिटी के अधिकारी ने बताया कि तकनीकी रूप से पहले रेन ड्रेन का काम पूरा होना चाहिए था। तभी सड़क भी स्थायी रूप से लंबे समय तक सही रह सकती है। अब नए सिरे से प्रस्ताव भेजा गया है। इसमें रेन ड्रेन के काम को पूरा करने का प्रस्ताव है। साथ ही डगरू फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का काम भी शामिल है।

खबरें और भी हैं...