पुलिस की कार्रवाई:नीले कार्डधारकों का 60 क्विंटल बेचा गेहूं पुलिस ने बरामद किया, दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज

मोगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एएफएसओ गुरलाल सिंह बोले- पुलिस के साथ-साथ विभाग की टीम भी कर रही जांच

कोविड-19 को देखते हुए प्रधानमंत्री ने लोगों को मुफ्त में गेहूं सरकारी राशन डिपो के जरिए बांटने के लिए कहा था। लेकिन डिपो संचालक अधिकारियों के साथ मिलीभगत करके नीले राशन कार्ड धारकों को गेहूं बांटने की बजाय ब्लैक में बेच रहे हैं। ऐसा ही एक मामला गांव कोकरी में सामने आया है। पुलिस ने डिपो होल्डर व उसके साथी के खिलाफ केस दर्ज किया है।

थाना अजीतवाल के एएसआई मलकीत सिंह ने बताया कि पुलिस पार्टी द्वारा गश्त के दौरान गांव कोकरी फूला सिंह वाला में मुखबिर की सूचना पर सरकारी डिपो संचालक गौरी शंकर के यहां छापेमारी करके गेहूं की कालाबाजारी होने से रोक लिया गया। पुलिस की रेड को देखते हुए। डिपो संचालक व उसका साथी मौके से फरार हो गए जबकि पुलिस द्वारा सरकारी गेहूं को अपने कब्जे में ले लिया गया है।

पुलिस द्वारा डिपू संचालक गौरी शंकर व हरप्रीत सिंह निवासी कोकरी कलां के खिलाफ धारा 420, 409, 120बी, 7 एसेंशियल एकमोडिटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया है। जांच अधिकारी से पूछने पर कितना गेहूं पकड़ा गया है। जांच चल रही है। जांच उपरांत ही बताया जा सकता है कि कितनी सरकारी गेहूं बरामद हुई है।

गांव निवासी सूत्रों के हवाले से पता चला है कि सरकारी डिपो संचालक गौरीशंकर के पास तीन डिपो हैं। इनमें से एक डिपो उसके खुद के नाम पर, दूसरे डिपो मृतक महिला सुदेश रानी की मौत के बाद के चार सालों से गोरी शंकर डिपू के साथ अटैचमेंट विभाग द्वारा लगाई गई है। जबकि तीसरा डिपो गांव कोकरी हेरां की सप्लाई भी इसी के साथ विभाग द्वारा अटैच की गई है।

इलाके में यह भी चर्चा है कि पुलिस द्वारा डिपू संचालक के साथ मिलीभगत करके कई लोगों को मौके पर छोड़ा गया है। इसके बदले मोटी धनराशि ऐंठी गई है। पुलिस सूत्रों के अनुसार लगभग 60 क्विंटल के करीब सरकारी गेहूं पकड़ी गई हैं जोकि इसी फ्लोर मिल में बेची जानी थी।

इस संबंध में इलाके के एएफएसओ गुरलाल सिंह ने कहा कि पुलिस के साथ-साथ उनके विभाग की भी एक टीम डिपो संचालक पर हुई कार्रवाई की जांच कर रही है। वही सरकारी गेहूं की कालाबाजारी में विभाग के किसी भी अधिकारी या इंस्पेक्टर कि किसी तरह की कोई मिलीभगत नहीं है।

खबरें और भी हैं...