• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bathinda
  • Moga
  • Put Twice The Entry Of A Check Of One Lakh Of The Customer, Withdraw Half The Money, Keep Half The Money Himself, And Cheated 1.60 Lakh Rupees From The Other Customer As Well.

उपभोक्ताओं से धोखाधड़ी:ग्राहक के एक लाख के चेक की दो बार एंट्री डाल 2 लाख निकाले आधे पैसे खुद रखे, दूसरे ग्राहक से भी ऐसे ही 1.60 लाख रुपए ठगे

कोटकपूरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दो उपभोक्ताओं से धोखाधड़ी पर बाजाखाना एसबीआई की महिला क्लर्क पर केस

थाना बाजाखाना पुलिस ने दो उपभोक्ताओं से धोखाधड़ी के आरोप में बैंक की महिला क्लर्क पर मामला दर्ज किया है। भारतीय स्टेट बैंक बाजाखाना शाखा की मुख्य प्रबंधक अदिति सिंगला ने एसएसपी फरीदकोट को दी शिकायत में बताया कि बरगाड़ी की गुरप्रीत कौर उनकी शाखा में एसोसिएट क्लर्क के तौर पर 2017 से तैनात है। 2 नवंबर 2019 को बैंक का ग्राहक गांव झखड़वाला निवासी बलबीर सिंह बैंक से एक लाख रुपए चेक के माध्यम से निकलवाने आया।

इस दौरान कैश ड्यूटी पर तैनात गुरप्रीत कौर ने उसके खाते से दो बार एक-एक लाख रुपए निकालकर एक लाख ग्राहक को दे दिया, जबकि एक लाख अपने पास रख लिए। 28 नवंबर को जब उक्त ग्राहक बलबीर सिंह अपनी पासबुक पूरी करवाने को बैंक आया तो उसने दो बार खाते से पैसे निकलने पर एतराज जताया व अतिरिक्त निकाले गए पैसे की जांच कर पैसे वापस करने की लिखित सूचना दी।

जांच के दौरान बैंक प्रबंधन ने गुरप्रीत कौर से पूछा तो वह गलती मान गई। दो दिसंबर 2019 को उसने खुद के हाथ से वाउचर भर एक लाख रुपए वापस ग्राहक के खाते में जमा करवा दिए। इस बार उसके लिखित माफी मांगने व ऐसा दोबारा न करने का वादा करने पर बैंक प्रबंधन ने उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया।

इसी तरह गुरप्रीत कौर ने 7 नवंबर 2019 को भी धोखाधड़ी की। बैंक के ग्राहक बाबू सिंह ने एक लाख साठ हजार की निकासी के लिए चेक बैंक में पेश किया, लेकिन उक्त क्लर्क ने इस बार भी दो बार चेक एंटर कर दिया और एक लाख साठ हजार ग्राहक को देकर बाकी के पैसे अपने पास रख लिए। केंद्रीय व्यवस्था में एक चेक पर एक बार पेमेंट करने की व्यवस्था के चलते बैंक के केंद्रीय लेजर व स्थानीय कैश रजिस्टर में कैश का अंतर आने लगा, जबकि इस बार उक्त महिला क्लर्क ने पैसे अपने पास रखने की बजाए आठ नवंबर 2019 को यह पैसे दो बार बैंक सिस्टम से दो एंट्री कर अपनी बहन अमनदीप कौर के बैंक खाते में एक लाख 93 हजार रुपए जमा कर दिए।

पहले मामले में गलती मान दे दिए थे पैसे, दूसरी धोखाधड़ी पर प्रबंधन ने दर्ज कराया केस

दूसरी धोखाधड़ी में बहन के खाते में जमा करा दिए थे पैसे

दूसरे मामले में क्लर्क ने खुद पैसे न रख बहन अमनदीप कौर के खाते में जमा करा दिए थे। जांच के दौरान अंतर के चलते उच्च अधिकारियों से आई सूचना पर 19 नवंबर को अमनदीप कौर को बैंक बुलाकर जांच की गई तो अमनदीप कौर ने माना कि यह पैसे उसके नहीं व न ही उसने बैंक खाते में जमा करवाए हैं। बैंक अधिकारियों के कहने पर उसने अपने हाथों बैंक वाउचर भर एक लाख साठ हजार रुपए वापस बैंक के ग्राहक बाबू सिंह के खाते में जमा करवा दिए।

प्रबंधन ने कर्मी को निलंबित कर विभागीय जांच शुरू की

दो बार एक जैसी गलती पकड़े जाने पर बैंक ने उक्त महिला कर्मचारी को निलंबित कर विभागीय जांच शुरू की। जांच के निष्कर्ष के आधार पर बैंक प्रबंधक अदिति सिंगला ने 30 अक्टूबर 2020 को लिखित शिकायत देकर मामले की जांच कर महिला कर्मचारी पर कानूनी कार्रवाई का आग्रह किया। शिकायत पर एसएसपी फरीदकोट द्वारा करवाई गई जांच में गुरप्रीत कौर के आरोपी पाए जाने पर उनके आदेश पर थाना बाजाखाना पुलिस ने आरोपी क्लर्क पर केस दर्ज कर कार्रवाई की है।

खबरें और भी हैं...