INTERVIEW-सोनू सूद से सीएम फेस जैसे मुद्दों पर खुलकर बात:बोले- मुख्यमंत्री तो चन्नी जैसा हो, कम समय में ज्यादा काम किए, उन्हें पूरा समय मिले...

हरबिंदर सिंह भूपाल/मोगा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरजोत कमल के भाजपा की ओर से मालविका सूद के खिलाफ मोगा से उतरने की घोषणा के बाद से अभिनेता सोनू सूद ने अपनी बहन (मोगा से कांग्रेस प्रत्याशी) के लिए पूरी तरह से चुनावी कमान संभाल रखी है। वो हर रोज खुद मालविका के साथ गांव-गांव जा रहे हैं। वे पंजाब और अन्य राज्यों के लिए किए कामों को गिना कर बहन के लिए वोट मांग रहे हैं। दैनिक भास्कर के संवाददाता हरबिंदर सिंह भूपाल ने उनसे सीएम फेस समेत अन्य मुद्दों पर बात की।

  • पेश हैं बातजीत के मुख्य अंश...

भास्कर : आप अगला मुख्यमंत्री किसे देखना चाहते हैं, एक वीडियो मंे आप चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम के तौर पर देखने की बात कह रहे हैं?

सोनू सूद : सीएम तय करने का फैसला हाईकमान का होगा। जहां तक मेरी सोच है सीएम तो चरणजीत सिंह चन्नी जैसा ही होना चाहिए, जिसने कम समय में इतना काम किया है, ऐसे में उन्हें पूरा समय मिलना चाहिए।
भास्कर : पहले आप कहते थे कि मालविका के लिए चुनाव प्रचार नहीं करूंगा, लोग उनका काम देखकर उनको वोट करें, लेकिन अब आप खूब प्रचार कर रहे हैं?

सोनू सूद : नहीं, मैंने यह कभी नहीं कहा कि मैं अपनी बहन मालविका सूद के लिए चुनाव प्रचार नहीं करूंगा। मैंने कहा था कि वो अपनी कमान स्वंय संभालेंगी, लोगों से मिलेंगी। जहां, मेरी जरूरत होगी मैं जाऊगा। अब चुनाव में कम समय रह गया है। ऐसे में मैं आप लोगों को हर जगह दिख रहा हूं।

भास्कर : कांग्रेस में कलह को कैसे देखते हैं, टिकट नहीं मिलने से कई बड़े दिग्गज बागी हो गए हैं, ऐसे में पार्टी को नुकसान होगा क्या?

सोनू सूद : टिकट तो किसी एक को ही मिलता है। इसमें बवाल नहीं करना चाहिए। जिस पार्टी ने आपको कुछ दिया हो, उसके खिलाफ नहीं जाना चाहिए। पार्टी आगे भी कुछ न कुछ देती रहती है। वहीं, लालची लोगों को तो वोटर नकारेंगे ही। मेरी सोच है कि पार्टी के खिलाफ जाने से खुद का ही नुकसान होता है।

भास्कर : आप तो राजनीति में आना नहीं चाहते तो फिर आप अपने शहर की सेवा कैसे करेंगे?

सोनू सूद : हां, मैं स्वयं राजनीति में नहीं आ रहा। मुझे सभी पार्टियों ने बड़े-बड़े ऑफर किए थे, किसी ने उपमुख्यमंत्री पद का तो किसी ने मुख्यमंत्री पद का। मैं तो देश और विदेश में भी काम कर रहा हूं। मेरा दायरा बड़ा है। मैं राजनीति में नहीं आना चाहता। इसलिए मैं, बहन को राजनीति में उतार रहा हूं, ताकि मैं अपने शहर का कर्ज उतार सकू। मैं मोगा को काफी आगे लेकर जाना चाहता हूं।

भास्कर : डॉ. हरजोत कमल कहते हैं कि उनकी टिकट सोनू सूद ने कटवाई है, इस पर आप का क्या कहना है?

सोनू सूद : यह कहना गलत है कि उनकी टिकट मैंने कटवाई है। टिकट तो किसी एक को मिलनी होती है। जब उनको मिली होगी तो किसी और की कटी होगी। ऐसा नहीं सोचना चाहिए।

भास्कर : मालविका सूद के बारे कुछ कहना चाहेंगे?

सोनू सूद : मालविका सूद एमसीए तक पढ़ी-लिखी हैं। हैदराबाद में नौकरी कर चुकी हैं। शादी के बाद मोगा में बस गईं और एकेडमी चलाकर युवाओं को राह दिखा रही हैं। उनके पास समाज सेवा का जज्बा है। उनके पति गौतम सच्चर कपड़ा व्यापारी और समाजसेवी हंै। 12 साल की बेटी निगारा और 8 साल का बेटा रेहान हैं। कोरोना काल में उन्होंने हर जरूरतमंद की सेवा की। अब मोगा हलके की सेवा करना चाह रही हैं।

खबरें और भी हैं...