पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अस्पताल में हमले की कोशिश का आरोप:स्टेट लेवल गतका गोल्ड मेडलिस्ट की मौत, ससुराल पर कत्ल का आरोप

मोगा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रमनदीप कौर - Dainik Bhaskar
रमनदीप कौर
  • इलाज के दौरान निजी अस्पताल में हमले की कोशिश का आरोप
  • युवती ने 3 साल पहले राज्य स्तरीय गतका प्रतियोगिता में जीता था गोल्ड मेडल

बुघीपुरा-अमृतसर रोड पर स्थित एक निजी अस्पताल में दाखिल एक विवाहिता की इलाज के दौरान बुधवार की सुबह मौत हो गई। मायके वालों का आरोप है कि विवाहिता को ससुराल वालों द्वारा जहरीली दवाई देने व गला घोंटने से हालत बिगड़ने के चलते उसकी मौत हुई है। फिरोजपुर पुलिस शव को कब्जे में लेकर फिरोजपुर ले ग‌ई। मंगलवार की रात को कार में सवार होकर आए पांच युवकों को हमलावर बता लड़की वालों ने 3 को मैहना पुलिस के हवाले कर दिया। बताया जा रहा है कि विवाहिता ने 3 साल पहले राज्य स्तरीय गतका प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता था।

फिरोजपुर निवासी जसवीर सिंह ने बताया कि उसने अपनी बेटी रमनदीप कौर की शादी 8 महीने पहले फिरोजपुर निवासी अमृतपाल के साथ की थी। शादी के बाद से ही बेटी के ससुराल वाले उसे तंग परेशान करते आ रहे थे। इसी के चलते 10 जुलाई को बेटी के ससुराल वालों ने उसे जहरीली चीज देने के बाद गला घोंट कर मारने का प्रयास किया। बाद में उसे फिरोजपुर के एक निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया। 11 जुलाई को उसके द्वारा अपनी बेटी को फोन किया गया तो फोन दामाद ने उठाया और बेटी से बात नहीं कराई। वह अपने रिश्तेदारों के साथ वहां पहुंची तो उसकी तो देखी कि उसकी तबियत ज्यादा बिगड़ी हुई थी।

ससुराल परिवार पर केस दर्ज, हमले के आरोप में तीन लोग हिरासत में लिए गए

इसके बाद बेटी को लेकर लुधियाना जा रहे थे लेकिन रास्ते में तबियत और ज्यादा बिगड़ने के चलते मोगा के निजी अस्पताल में लाकर दाखिल करवा दिया गया। मामले की जानकारी पुलिस को देने पर उसके बयान पर पुलिस ने दामाद अमृतपाल सिंह समेत ससुराल वालों के खिलाफ कातिलाना हमले के आरोप में केस दर्ज कर लिया था। जसवीर सिंह का आरोप है कि मंगलवार की रात को बोलेरो जीप में सवार दामाद के पक्ष का साहब सिंह अपने चार अज्ञात साथियों के साथ मोगा के निजी अस्पताल पहुंचा तो रिसेप्शन पर उन्होंने देख लिया और उनके वहां आने का कारण पूछा तो विवाद खड़ा हो गया। वे झगड़ा करने लगे।

उनके द्वारा तुरंत अस्पताल की सिक्योरिटी को बुला लिया गया। इस दौरान पांच में से दो लोग मौका पाकर अस्पताल से फरार हो गए, जबकि 3 लोग उनके हत्थे चढ़ गए। इसके बाद अस्पताल के मालिक के जरिए थाना मैहना पुलिस को सूचित किया गया। पुलिस ने मौके पर आकर साहब सिंह समेत दो अन्य लोगों को हिरासत में लेकर जीप समेत थाने ले गए। उनका कहना है कि ये लोग उसकी बेटी की हत्या करने के इरादे से अस्पताल में आए थे। इसी बीच बुधवार की सुबह उसकी बेटी की इलाज के दौरान मौत हो गई। मामले की जानकारी फिरोजपुर पुलिस को देने पर पुलिस मोगा पहुंची और बेटी के शव को लेकर वापस फिरोजपुर ले गए।

खबरें और भी हैं...