गांव चड़िक में किसान प्रशिक्षण कैंप लगाया:किसानों को पराली जलाने के मानव सेहत पर पड़ते दुष्प्रभाव बताए

मोगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसान प्रशिक्षण कैंप में किसानों को जानकारी देते कृषि माहिर। - Dainik Bhaskar
किसान प्रशिक्षण कैंप में किसानों को जानकारी देते कृषि माहिर।

कृषि अफसर मोगा डॉ. बलविंदर सिंह के निर्देश पर ब्लॉक मोगा -1 के गांव चड़िक में इनसीटू सीआरएम स्कीम के तहत किसान प्रशिक्षण और जागरूकता प्रोग्राम का आयोजन किया गया। इस मौके कृषि विभाग के माहिरों ने किसानों को पराली न जलाने की अपील की।

ब्लॉक कृषि अफसर डॉ. गुरप्रीत सिंह ने बताया कि जागरूकता कैंप में बड़ी संख्या में गांवों के किसानों ने शमूलियत की। उन्होंने बताया कि किसानों को पराली को खेत में जलाने और वातावरण और मानवीय सेहत पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभावों और इसको खेतों में ही मिलाकर गलाने के साथ होने वाले फसलों के फायदों के बारे में बारीकी से समझाया गया।

उन्होंने इनसीटू क्रॉप रेजीड्यू मैनेजमेंट के बारे में किसानों को समझाया और इसके फायदों पर भी रोशनी डाली। उन्होंने बताया कि इस स्कीम के अंतर्गत पराली को खेतों में ही मिलाने वाले कृषि उपकरण किसानों को भारी सब्सिडी पर मुहैया करवाए जा रहे हैं, जिससे वह वातावरण समर्थक खेती कर सकें।

प्रशिक्षण कैंप में कृषि विभाग की अन्य गतिविधियों के साथ जिला कानूनी सेवाएं अथॉरिटी की स्कीमों के बारे में भी किसानों को जागरूक किया गया। कैंप में कृषि विकास अफसर यशप्रीत कौर, अमनदीप सिंह, इशविंदर कौर, दिलशाद सिंह आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...