• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bathinda
  • Moga
  • The DEO Of The Common Teacher Front Should Withdraw The Indenture And Anti education Decisions In The Name Of The Minister Of Education And Ensure The Raw Teachers And Non teaching Staff.

अध्यापकों ने जताया सख्त रोष:साझा अध्यापक मोर्चा का डीईओ को शिक्षा मंत्री के नाम मांगपत्र-शिक्षा विरोधी फैसले वापस लेकर कच्चे शिक्षक और नॉन टीचिंग स्टाफ को पक्का किया जाए

मोगा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार के शिक्षा व अध्यापक विरोधी फैसलों के खिलाफ अध्यापकों ने जताया सख्त रोष

सांझा अध्यापक मोर्चा पंजाब ने निजीकरण व व्यापारीकरण पक्षीय नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत पंजाब में प्री-प्राइमरी से बाहरवीं कक्षाओं को सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में चलाकर कांप्लेक्स स्कूल का एजेंडा लागू करने व शिक्षा विभाग का आकार कम करने, प्राइमरी शिक्षा तंत्र के लिए कुल तबाही व जनतक शिक्षा के खात्मे की साजिश करार दिया है।

जिला स्तरीय रोष दौरान मोर्चे के नेता जजपाल सिंह बाजेके, प्रगटजीत किशनपुरा, गुरप्रीत अम्मीवाला, केवल सिंह की अगुवाई में शिक्षा मंत्री के नाम मांग पत्र भेजते उक्त फैसलों पर रोक लगाने तथा बातचीत की जमहूरी प्रक्रिया द्वारा सारे मसले हल करने की पुरजोर मांग की गई। कहा कि ऐसा न होने की सूरत में पंजाब सरकार के खिलाफ संघर्ष तेज किया जाएगा। सांझा अध्यापक मोर्चा पंजाब के नेताओं ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा प्राइमरी, मिडिल व हाई स्कूलों को सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में मर्ज कर जनतक शिक्षा व रोजगार के उजाड़े की गारंटी करती राष्ट्रीय शिक्षा नीति को पंजाब सरकार व इसके शिक्षा सचिव द्वारा तेजी से लागू की जा रही है।

नेताओं ने कहा कि जनतक शिक्षा प्रबंध, रोजगार व शिक्षा विभाग के उजाड़े को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। स्कूलों में खाली असामियां बिना देरी भरने की भी मांग की। इस मौके पर सांझा अध्यापक मोर्चा के नेता बहादुर सिंह, प्रदीप रखड़ा, दविंदर, प्रितपाल बराड़, हरिंदर मोगा, मनदीप कौर, रिचा चावला ने मांग की कि समूह कच्चे अध्यापकों, नॉन टीचिंग मुलाजिमों को विभाग में रेगुलर किया जाए।

खबरें और भी हैं...