पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

झांसा:350 रुपए की सदस्यता लो, साल में 4 बार मिलेगा 800 रुपए का राशन, 300 लोग ठगे, 3 लोग गिरफ्तार

मूनक6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राशन के नाम पर लोगों को ठगने वाले आरोपी पुलिस की गिरफ्त में। - Dainik Bhaskar
राशन के नाम पर लोगों को ठगने वाले आरोपी पुलिस की गिरफ्त में।

गरीब और दलित परिवारों को राशन देने का झांसा देकर 6 गांवों के 200 से अधिक परिवारों से हजारों रुपए की ठगी की गई है। पीड़ितों ने आरोप लगाए कि आरोपियों ने चैरिटी ट्रस्ट की आड़ में प्रति परिवार 350 रुपए लेकर एक साल में चार बार राशन देने का वायदा किया था परंतु आरोपी लोगों से पैसे ऐंठ कर भाग गए। पुलिस ने मामले में दंपति समेत तीन व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मकोरड साहिब निवासी प्रवीण सिंह ने पुलिस को शिकायत दी है कि वह मेहनत-मजदूूरी करता है। 10 मार्च को उसके घर रिशू सिंह, उसकी पत्नी अमनदीप कौर निवासी जहांगीर व लखविंदर सिंह निवासी कालिया आए। उन्होंने ग्रामीण विकास केन्द्र का कार्ड पकड़ा हुआ था। उन्होंने बताया कि वह अपने साथियों के साथ मिलकर जरूरतमंद परिवारों के लिए ग्रामीण विकास केंद्र चैरिटी ट्रस्ट चलाते हैं।

इसका सदस्य बनने के लिए उन्हें 350 रुपए देने पड़ेंगे। इसके बाद उसे 1 वर्ष की मेंबरशिप मिल जाएगी। इसके तहत उसे एक वर्ष में 4 बार 800-800 रुपए का राशन दिया जाएगा। उनकी बातों में आकर उसने और गांव के अन्य जरूरतमंद परिवारों ने उनकी मेंबरशिप ले ली। इसके बाद न तो उन्हें राशन दिया गया और न ही पैसे वापस किए। मेंबरशिप लेने वाले लोगों ने कई बार संपर्क करने का प्रयास किया परंतु फोन बंद आ रहे हैं। पुलिस ने रिशू, उसकी पत्नी अमनदीप कौर, लखविंदर सिंह और उसके अज्ञात साथियों के विरुद्ध धोखाधड़ी की धारा 420 के तहत मामला दर्ज कर तीनों आरोपियों को काबू कर लिया है।

गांव सूरजन भैणी में 40 परिवारों से ठगी, कार्ड बनवाकर पैसे ले लिए, अब फोन भी नहीं उठाते आरोपी : सरपंच पति गुरजंट सिंह

गांव सूरजन भैणी की सरपंच के पति गुरजंट सिंह ने बताया कि आरोपियों ने गांव में आकर गरीब परिवारों को राशन देने का आश्वासन दिया था। ऐसे में गांव के 40 परिवारों ने पैसे देकर कार्ड बनवा लिए थे। शुरू में आरोपियों के फोन पर बात होती थी परंतु अब आरोपियों ने फोन ही बंद कर लिए थे। उन्होंने पुलिस से मांग की कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए और लोगों के पैसे वापस दिलवाए जाएं।

डोर टू डोर लोगों को सदस्यता के लिए उकसाते थे आरोपी : एसएचओ

मूनक थाने के एसएचओ गुरमीत सिंह ने बताया कि जांच में पता चला है कि आरोपियों ने 300 से अधिक लोगों से ठगी की है। 50 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। आरोपी गरीब लोगों से बैठक करते या डोर टू डोर बातों में फंसा लेते थे। फिलहाल 2 दिन का रिमांड लिया गया है।

खबरें और भी हैं...