पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विरोध:16 ट्रेड संगठनों ने लेबर कानून में संशोधन को वापस लेने को लेकर निकाला रोष मार्च

बठिंडा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नेता बोले- सरकार लोगों की मदद करने की बजाय निजीकरण की ओर कदम बढ़ा रही

शुक्रवार को केंद्रीय ट्रेड यूनियन तथा कर्मचारी संगठनों के 22 मई को राष्ट्रीय हड़ताल के आह्वान के बाद 16 संगठनों के समूह ने मिनी सचिवालय के समक्ष रोष रैली करने के उपरांत शहर से रोष मार्च किया। मिनी सचिवालय के सामने लोगों को संबोधित करते हुए टीएसयू के नरिंदर कुमार, ठेका मुलाजिम संघर्ष कमेटी के गुरविंदर पन्नू, डीटीएफ के रेश्म सिंह, जल सप्लाई एवं सेनिटेशन वर्कज यूनियन के संदीप खान, बीकेयू उगराहां के सुखजीत कोठागुरु, जमहूरी अधिकारी सभा के नरिंदर कुमार जीत, नौजवान भारत सभा के अश्वनी घुद्दा, पावरकाम एंड ट्रांसको ठेका मुलाजिम यूनियन के राज कुमार, एसएसए व रमसा अध्यापक यूनियन के हरजीत जीदा व मनरेगा कर्मचारी यूनियन के वरिंदर सिंह ने संबोधन में कहा कि मोदी सरकार कोरोना की आड़ में लोक विरोधी फैसले ले रही है।  महामारी के दौर में लोगों की मदद करने की बजाए सरकार निजीकरण की ओर कदम बढ़ा रही है। लोग इस कठिन समय में बेरोजगार हो रहे हैं, लेकिन सरकार लेबर कानून में बदलाव कर रही है। उन्होंने कहा कि मजदूर के काम करने के 8 की बजाए 12 घंटे, बिजली क्षेत्र का पूरी तरह निजीकरण करने, बड़े कार्पोरेट हाउसों को कर्ज में अधिक रियायतें देने व आम लोगों से अधिक टैक्स वसूलने जैसे हजारों मुद्दे हैं जिसमें आम लोगों व मजदूरों के हकों पर डाका डाला गया है। उन्होंने मांग करते हुए लेबर कानूनों में किए गए संशोधनों को वापस लेने की मांग की। उन्होंने बिजली क्षेत्र के निजीकरण को रोकने, प्राइवेट थर्मलों से किए समझौते रद्द करने, जल सप्लाई विभाग सहित सभी विभागों में कांट्रेक्ट नौकरी बंद कर रेगुलर नौकरी देने, सेहत विभाग का पूरी तरह सरकारीकरण करने, शिक्षा क्षेत्र का निजीकरण बंद करने अादि की मांग की। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि कार्पोरेट घरानों को टैक्स रियायतें बंद करने की मांग करते हुए इस पैसे को सरकारी अदायरों पर खर्च करने की मांग की। इस मौके पर सभी 16 यूनियन के सदस्य मौजूद थे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें