पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रधानमंत्री लगातार बंद होटल इंडस्ट्री की सुनें:होटल खोलने को लेकर एसो. ने केंद्र व राज्य सरकार के खिलाफ जताया रोष

बठिंडा25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

होटल एसोसिएशन ने शुरू किए गए मिशन रोजी रोटी संघर्ष के तहत रविवार को रोष रैली करके केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ रोष जताया। हाथ में अनेक तरह के स्लोगन लिखी तख्तियां उठाकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं एक सप्ताह का अल्टीमेटम पूरा होने पर 1 जून से पूर्ण तौर पर होटल इंडस्ट्री खोलने का एलान किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मन की बात पर टिप्पणी करते हुए प्रधान सतीश अरोड़ा ने कहा कि वे 7 साल से मन की बात सुन रहे हैं, पिछले टर्न ओवर में 274 बार और आज 77वीं बार मन की बात सुनी, लेकिन अब प्रधानमंत्री को उनके भी मन की बात सुननी चाहिए। फ्रांस दौरे में प्रधानमंत्री ने भारत की टूरिज्म इंडस्ट्री को नंबर वन बनाने का दावा किया था।

उस वक्त देश की टूरिज्म 5वें स्थान पर था, लेकिन अब बंदी की कगार पर है। अकेले होटल इंडस्ट्री ही जीएसटी व सीजीएसटी के रूप में 900 करोड़ हर महीने जमा करवाती है। अगर सरकार सिर्फ 1 महीने की राशि का ही फायदा दे तो दम तोड़ती इंडस्ट्री के लिए बड़ी राहत होती। सतीश अरोड़ा ने कहा कि लॉकडाउन में टूरिज्म व होटल इंडस्ट्रीज के साथ बैठकर टूरिज्म फ्रेंडली पॉलिसी बनानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...