पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेहद दुखदायी:मौतें 1001: 372 दिनों पर बेहद भारी 79 दिन एक भी दिन ऐसा नहीं जब नहीं टूटे हों परिवार

बठिंडाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 1 अप्रैल से 18 जून तक 79 दिनों में 751 घरों को कोरोना ने संताप में डुबोया, क्रम जारी

कोरोना की दूसरी लहर के कहर को भूलना मुश्किल ही नहीं, नामुकिन जैसा है। शहर में 23 मार्च 2020 से लगे कोरोना लॉकडाउन के बाद कोरोना का असर बठिंडा में नजर आया तथा कुछ परिवारों को यह पीड़ा देकर एक बारगी अलोप हो गया तथा शहर में केस व मौत दोनों का ही आंकड़ा शून्य हो गया।

ऐसे में सरकार के पूरी ढिलाई देने के बीच लोगों के मनों में यह विचार घर कर गया कि कोरोना चला गया, लेकिन यह दोगुणी तेजी से लौटा तथा हालात यह हो गए कि जो काम 372 दिन नहीं कर सके, वह मात्र 79 दिनों ने कर दिखाया तथा पूरे वर्ष भर से अधिक समय में जहां मात्र 250 लोगों ने कोरोना से प्राण गंवाए थे, वहीं 1 अप्रैल से लेकर 18 जून तक 79 दिनों में 751 लोगों की जान कोरोना की वजह से चली गई।

भले ही मौतों का आंकड़ा 34 से कम होकर 3 पर आ गया है, लेकिन मौतों का यह क्रम अब भी जारी है। जिला बठिंडा में शुक्रवार को मौतों का आंकड़ा 1001 को छू गया जबकि वीरवार को यह 999 केस था। ऐसे में बहुतेरे परिवार काफी बुरी तरह टूट गए तो कई परिवार अभी भी कोरोना से जीवन व मौत का संघर्ष कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ 39 हजार 140 लोग अभी तक कोरोना पर जीत हासिल कर चुके हैं जो बठिंडा की अनुमानित 13.50 लाख जनसंख्या का करीब 3 प्रतिशत है।

कोरोना की लहर के बीच नित्य मिलने वाले संक्रमित मामलों का आंकड़ा कम होने से एक्टिव केस भी कम हो रहे हैं, लेकिन मृत्यु दर में बढ़ोत्तरी रुकने का नाम नहीं ले रही है। बीते 24 घंटे में यह आंकडा 1000 के पार पहुंच चुका है जबकि वीरवार को मृतकों की संख्या 999 थी, लेकिन शुक्रवार को हुई दो कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत ने आंकड़े को 1001 पहुंच दिया।

कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या पहले से मात्र 7 प्रतिशत के आसपास सिमट गई है, लेकिन कोरोना संक्रमण पर ब्रेक अभी बाकी हैं। सेहत विशेषज्ञों के अनुसार वैक्सीन नहीं लगवाने तक कोरोना संक्रमण के फैलाव का डर बना रहेगा। 1001 मात्र नंबर नहीं, परिवारों को मिले घाव हैं 31 मार्च 2021 तक जिले में कोरोना से 250 मौतें हुई थीं, लेकिन अप्रैल माह में शुरू हुए दूसरे पीक में 30 दिनों में कोरोना संक्रमण से 103, मई माह में सर्वाधिक 543 तथा जून माह के 18 दिन में 105 कोरोना से मौत रिकार्ड हुई हैं। मात्र 79 दिनों में 751 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत बेहर डराने वाली है। वहीं 31 मार्च, 2021 तक जिले में 11296 कोरोना संक्रमित मरीज थे।

अप्रैल में 30 दिन में 9199, मई माह में 17705 तथा अभी जून माह में 18 दिन में 1585 कोरोना संक्रमण केस मिले है। हालांकि जून माह शुरू होने के बाद मरीजों की संख्या कम हो रही है, लेकिन कोरोना से मौतें जारी हैं। शुक्रवार को सरकारी रिपोर्ट के अनुसार बीते 24 घंटों में 63 कोरोना संक्रमित तथा 2 मरीजों की मौत हुई है।
यह विन्रम श्रद्धाजंलि उन्हें, जिन्हें अब कभी मिला नहीं जा सकेगा
कोरोना की पहली लहर ने हमें डराया तो दूसरी लहर ने बेतहाशा दर्द दिया है। यह दर्द जिंदगी तलक उन परिवारों को रह-रह कर महसूस होगा, जिन्होंने किसी नजदीकी को कोरोना से खोया है। इस जंग में अधिकांश जगह डाक्टर्स व नर्सिंग स्टाफ ने जान पर खेलकर कोरोना मरीजों काे संभाला।

वहीं जिला बठिंडा में जरूरतमंद लोगों की मदद को शुरू किए तीन चेरिटेबल कोविड केयर सेंटर में लाेगों को दवा से लेकर इलाज तक निशुल्क मुहैया होने से बठिंडा राज्य में अलग पहचान बनाने में कामयाब रहा है। कोरोनकाल में दोस्त, रिश्तेदार, पड़ोसी व अनजान लोग किसी न किसी रूप में मदद को आगे आए जो इंसानियत का पहला पाठ है। पहली व दूसरी वेव में कोरोना ने बठिंडा जिले के 1001 कीमती जानों को हमसे छीना। भास्कर उन्हें नमन व श्रद्धाजंलि अर्पित करता है।

खबरें और भी हैं...