पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जेल भरो आंदोलन:खेती आर्डिनेंस, बिजली संशोधन बिल 2020 सहित अन्य मांगों को लेकर किसानों ने दो घंटे लगाया जाम

बठिंडाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 200 किसानों ने दी गिरफ्तारी, खेल स्टेडियम में दो घंटे नजरबंद रख किए रिहा

भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर के आह्वान पर 10 अगस्त को पूरे पंजाब में जिला मुख्यालय पर जेल भरो आंदोलन चलाए गए। इसी कड़ी में बठिंडा के चिल्ड्रन पार्क में एकत्र हुए हजारों की संख्या में एकत्र हुए किसानों ने मिनी सचिवालय की ओर रोष मार्च निकालते हुए कूच किया तो पोस्ट आफिस चौक पर ही भारी पुलिस फोर्स ने बेरिकेडिंग करके इन्हें आगे बढ़ने से रोका।

गुस्साए किसानों ने बीच सड़क पर बैठकर दो घंटे तक चक्का जाम किया और केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए अपनी गिरफ्तारियां दी। पुलिस की ओर से लाई गई 4 बसों में लगभग 200 किसानों ने अपनी गिरफ्तारी दी, जिन्हें मल्टीपर्पज स्पोर्ट्स स्टेडियम में लाकर छोड़ दिया गया जहां इन्हें नजरबंद करके दो घंटे बाद रिहा कर दिया गया।

किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ संघर्ष तेज करने की चेतावनी दी

यूनियन के राज्य महासचिव काका सिंह कोटड़ा व जिला वित्त सचिव मुख्तयार सिंह राजकुब्बे ने कहा कि पहले केंद्र और पंजाब सरकार ने खेती आर्डिनेंस के तहत एक देश एक मंडी ऐलान करके किसान, मजदूर, मुलाजिम, छोटे दुकानदार, आढ़ती, बेजमीने खपतकारों की मौत के वारंट दे रही है। उन्होंने कहा कि यह आर्डिनेंस कार्पोरेट, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के पक्ष में जबकि आम लोगों के विपरीत हैं। उन्होंने कहा कि किसान विरोधी कानून के खिलाफ डटकर संघर्ष किया जाएगा। उन्होंने चेतावनी दी कि संघर्ष तीखा करने पर होने वाले जानी-माली नुकसान के लिए सरकार जिम्मेदार होगी। भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर के ब्लॉक प्रधान कुलवंत सिंह व कार्यकारिणी सदस्य भोला सिंह, अर्जन सिंह, रंजीत सिंह, अंग्रेज सिंह, सुखदेव सिंह, कर्म सिंह, बलविंदर सिंह, महमा सिंह ने भी संबोधित किया।

मार्च निकाल केंद्र सरकार के खिलाफ जताया रोष

कुल हिंद किसान संघर्ष तालमेल कमेटी के आह्वान पर 10 संगठनों ने कार्पोरेट भारत छोड़ो के नारे के तहत सोमवार को बठिंडा में किसानों ने वाहन मार्च निकाला और केंद्र सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया। जिले से संबंधित 7 विधायकों व सांसदों को चेतावनी पत्र सौंपते हुए खेती आर्डिनेंस को रद करवाने की मांग की।

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल, शिअद के प्रधान सुखबीर सिंह बादल, पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को केंद्र सरकार के खिलाफ खड़े होने जबकि वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल व केबिनेट मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगड़ से विधानसभा का विशेष इजलास बुलाने के लिए सीएम पर जोर डालने के अलावा आम आदमी पार्टी के विधायक बलजिंदर कौर, सुखदेव सिंह, कमालू, रूपिंदर रूबी को विरोधी पक्ष के तौर पर किसानों के मुद्दे जोर-शोर से उठाने के लिए चेतावनी पत्र दिए।

यूनियन ने शिअद के बायकॉट की चेतावनी दी
भाकियू डकौंदा के प्रदेश प्रधान बूटा सिंह बुर्जगिल की अगुवाई में सुखबीर सिंह बादल को चेतावनी पत्र देते समय किसान नेताओं ने कहा कि अगर शिअद केंद्र सरकार से नाता तोड़कर आर्डिनेंस का विरोध नहीं करता तो आने वाले समय में गांव में बादल परिवार समेत तमाम नेताओं का बायकाॅट किया जाएगा। किसान नेताओं कुल हिंद किसान सभा के बलकरण सिंह, हरनेक सिंह, जमहूरी किसान सभा के दर्शन सिंह, बलदेव सिंह, किरती किसान यूनियन के अमरजीत सिंह हनी, क्रांतिकारी किसान यूनियन के सुखदेव सिंह, जगदीश सिंह, पंजाब किसान यूनियन के गुरजंट सिंह, भाकियू डकौंदा के प्रांतीय कमेटी मेंबर बलदेव सिंह भाईरूपा ने कहा कि देश के किसानों की 9 सूत्रीय मांगें पहले ही एक चिट्ठी के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजी जा चुकी है।

उन्होंने चेतावनी दी कि मसलों के हल निकालने के लिए केंद्र की मोदी सरकार को मजबूर नहीं करते तो आने वाले दिनों में गांवों में किसानों के गुस्से का शिकार होने को तैयार रहें। कुल हिंद किसान सभा के बलकरण सिंह, हरनेक सिंह, जमहूरी किसान सभा के दर्शन सिंह, बलदेव सिंह, किरती किसान यूनियन के अमरजीत सिंह, क्रांतिकारी किसान यूनियन के सुखदेव सिंह, जगदीश सिंह, पंजाब किसान यूनियन के गुरजंट सिंह, भाकियू डकौंदा के प्रांतीय कमेटी मेंबर गुरदीप व बलदेव सिंह ने भी संबोधित किया।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें