मुक्तसर में गैंगस्टर शामा की हत्या:6 युवकों ने किए 40-45 राउंड फायर, भागकर घर में घुसा लेकिन हमलावर करते रहे पीछा; 3 गोलियां पीठ और एक सिर में मारी

मुक्तसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गैंगस्टर शामा की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
गैंगस्टर शामा की फाइल फोटो।

मुक्तसर बस स्टैंड के नजदीक गैंगस्टर श्याम लाल उर्फ शामा की गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। वारदात को शहर के गोनियाना चौक के पास बुधवार को अंजाम दिया गया। इस दौरान हुई ताबड़तोड़ गोलीबारी से पूरा इलाका दहल गया और गैंगस्टर शामा को करीब दर्जन भर गोलियां मारकर मौत के घाट उतार दिया। वहीं गैंगस्टर का बड़ा भाई इस हमले में घायल हो गया है। सूत्रों के अनुसार हमला करने वाले 6 युवक थे, जोकि 2 मोटर साइकिलों पर सवार होकर आए थे। हत्या के बाद सभी फरार हो गए।

शामा अपने कुछ साथियों के साथ बस स्टैंड पुलिस चौकी में किसी झगड़े में दो पक्षों का राजीनामा करवाने आया था। चौकी से निकल जब शामा अपने साथियों के साथ शहर के गोनियाना चौक के पास पहुंचा, तो वहां बाइक सवार करीब 6 युवकों ने शामा और उसके साथियों पर फायरिंग कर दी। इस दौरान शामा ने खुद को बचाने की कोशिश की और अपने घर की तरफ भागा। इस दौरान हमलावर भी उसके पीछे भागने लगे और फायरिंग करते रहे। गोलीबारी के बीच शामा एक घर में घुस गया और सीढ़ियां चढ़ने लगा। हमलावर भी उसके पीछे घर में घुसे और फायरिंग करते रहे। गोलियां लगने से लहूलुहान हुआ शामा मकान की पहली मंजिल पर सीढ़ियों के ऊपर ही गिर गया, जहां उसकी मृत्यु हो गई। उक्त मकान के आसपास व अंदर खून ही खून बिखरा हुआ था।

अस्पताल के बाहर विलाप करते गैंगस्टर शामा के परिजन।
अस्पताल के बाहर विलाप करते गैंगस्टर शामा के परिजन।

हमलावरों ने की 40 से 45 राउंड फायरिंग
शामा के सिर के पीछे खोपड़ी में गोली लगने उसकी मौत हो गई, जबकि 3 फायर उसकी पीठ पर लगे। चश्मदीदों के अनुसार इस हमले में करीब 40 से 45 राउंड फायर होने का अंदेशा है। मृतक के दोस्त प्रितपाल सिंह ने बताया कि मैं और शामा पुलिस चौकी से वापस आ रहे थे और जब वह गोनियाना चौक में खड़े थे। इसी दौरान बाइक सवार आधा दर्जन नौजवानों ने आते ही फायरिंग शुरू कर दी। शामा ने भागने की कोशिश भी की, लेकिन हमलावरों से उसकी पीछा न छोड़ा और उसकी हत्या कर दी। इस हमले में शामा का बड़ा भाई कुक्कू के भी टांग में एक गोली लगी है, जिसे सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया है।

मौके पर एक मोटरसाइकिल छोडकर भागे हमलावर
शामा को मारने 6 गैंगस्टर एक बुलेट व एक बजाज डिस्कवर मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए थे। उक्त 6 हमलावरों के हाथों में पिस्तौल थे। कत्ल करने के बाद 3 हमलावर मौके से बुलेट मोटरसाइकिल पर फरार हो गए, जबकि डिस्कवर मोटरसाइकिल घटना स्थल पर ही छोड़कर पैदल ही फायरिंग करते हुए गोनियाना गांव की ओर भाग गए। वहीं बुलेट बाइक पर भागे आरोपियों ने सेतिया पेपर मिल के नजदीक जा रही कार को पीछे से टक्कर मार दी और गन प्वाइंट पर कार छीनकर फरार हो गए। कार के मालिक वरूण ने बताया कि वह अपने ड्राइवर के साथ कार पर मलोट की ओर जा रहा था कि पीछे से मोटरसाइकिल ने टक्कर मार दी। जब उसे ड्राइवर ने गाड़ी रोक मोटरसाइकिल सवारों को उठाने के लिए गाड़ी रोकी तो उक्त नौजवानों ने पिस्तौल दिखाते हुए गाड़ी की चाबी छीन ली और वहां से फरार हो गए।

गोलीबारी में घायल हुआ गैंगस्टर शामा का भाई कुक्कू।
गोलीबारी में घायल हुआ गैंगस्टर शामा का भाई कुक्कू।

2 साल पहले हुई थी दोस्त की हत्या
श्याम लाल उर्फ शामा का अपना एक ग्रुप था और इन पर कई गंभीर मामले दर्ज हैं, जिस तरह शामा पर हमला हुआ, इसी तरह एक हमले में उसके दोस्त चमकौर सिंह को भी मौत के घाट उतार दिया गया था। 22 जुलाई 2019 को जब चमकौर गोनियाना रोड अपने घर के बाहर बैठा था जो र मोटरसाइकिल पर सवार 2 हमलावरों ने पिस्टल से हमला कर दिया था, जिसमें 2 गोलियां चमकौर की छाती में लगने के कारण मौत हो गई। 2 साल बीत जाने के बाद भी पुलिस अभी तक चमकौर के कातिलों तक नहीं पहुंच पाई।

गैंगस्टर दलीप के कत्ल मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा था शामा
शामा के ऊपर कई आपराधिक मामले दर्ज हैं और वह एक कत्ल के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा था। 7 अप्रैल 2009 को गोनियाना रोड पर ही शामा व उसके साथी चमकौर सिंह ने गैंगस्टर दलीप को मौत के घाट उतार दिया था और बाद में उसके शव को राजस्थान नहर में फैंक दिया। उक्त मामले में सुनवाई पूरी होने पर अदालत ने उन्हें 19 अप्रैल 2012 को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। जमानत मिलने के बाद चमकौर, शामा जमानत पर बाहर आए हुए थे। शामा पर लड़ाई झगड़े, मारपीट करने व आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज है। इसके अलावा एनडीपीएस एक्ट के तहत मारपीट करने और लूटपाट करने का मामला दर्ज है।

खबरें और भी हैं...