शिक्षा जरूरी है:रिजल्ट नहीं होने पर भी सरकारी स्कूल देंगे दाखिला

बठिंडा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछली क्लास के पेपर न होने पर इंटर्नल एग्जाम से सरकारी स्कूलों में होगा एडमिशन, अभिभावकों को राहत

पिछली क्लास का पास सर्टिफिकेट न होने पर भी बच्चों का सरकारी स्कूलों में अगली कक्षा में दाखिला हो सकेगा, इसके लिए अभिभावकों को बच्चें के पास होने संबंधी हल्फिया देना होगा। वहीं पेपर नहीं होने वाली क्लास के बच्चे भी सरकारी स्कूलों में इंटर्नल एग्जाम के आधार पर दाखिला ले सकेंगे। लॉकडाउन के बीच कामकाज ठप होने से तंगी से जूझ रहे सैकड़ों अभिभावक प्राइवेट स्कूलों में अपने बच्चे की फीस जमा करवा पाने में लाचार हैं। प्राइवेट स्कूलों की ओर से फीस नहीं चुकाने वाले बच्चों के रिजल्ट अथवा रिपोर्ट कार्ड नहीं दिए जा रहे जिसके चलते उनका किसी अन्य स्कूलों में दाखिला नहीं हो पा रहा। अपने बच्चे के भविष्य को लेकर चिंतित अभिभावकों की परेशानियों को समझते हुए शिक्षा विभाग ने अहम फैसला लिया है।

डीईओ व स्कूल मुखियाओं ने उठाई अभिभावकों की समस्या

शिक्षा सचिव की ओर से जारी पत्र में कहा है कि विद्यार्थियों के दाखिला संबंधी हुई वीडियो कांफ्रेंस के जरिए कुछ जिला शिक्षा अधिकारियों, स्कूल मुखियाओं ने बताया कि बहुत सारे प्राइवेट स्कूलों के विद्यार्थी सरकारी स्कूलों में दाखिला लेने के इच्छुक हैं, लेकिन अभिभावक फीस जमा नहीं करवा पाए जिसके चलते प्राइवेट स्कूलों ने पिछली कक्षा पास करने का सर्टिफिकेट जारी नहीं किए। शिक्षा सचिव ने स्पष्ट किया है कि ऐसे में अभिभावक स्वघोषणा पत्र दे सकेंगे, जिसमें िपछली क्लास पास करने के बारे में लिखा जाएगा।

इस साल बढ़े 8560 विद्यार्थी

सरकारी स्कूलों में अप्रत्याशित बदलाव और उस पर तंगी की वजह से लोगों का रुझान सरकारी स्कूलों की ओर एकदम से बढ़ा है। जिला बठिंडा की बात करें तो बीते शैक्षिक सत्र 2020-21 में प्री प्राइमरी से 12वीं तक 1 लाख 45 हजार 514 बच्चे पढ़ रहे थे जबकि नए शैक्षिक सत्र 2021-22 के अप्रैल महीने की 28 तारीख तक ही 1 लाख 54 हजार 74 बच्चे दाखिला ले चुके हैं यानी अभी तक 8560 बच्चे बढ़ गए हैं जबकि अभी दाखिला प्रक्रिया निरंतर चलेगी। प्री प्राइमरी से पांचवीं तक 3952 जबकि 6वीं से 12वीं तक 4608 बच्चों की संख्या बढ़ी।

कैबिनेट मंत्री के भतीजे ने अपना बच्चा सरकारी स्कूल में कराया दाखिल

कैबिनेट मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगड़ के भतीजे व अध्यापक नेता गुरविंदर सिंह ने अपना बेटा प्राइवेट स्कूल से हटाकर सरकारी प्राइमरी स्कूल आदमपुरा में यूकेजी में दाखिल करवाया। डिप्टी डीईओ एलिमेंटरी बलजीत सिंह संदोहा ने अध्यापक गुरविंदर सिंह के इस प्रयास को सराहा। ईटीटी टीचर यूनियन के नेता सुखदीप सिंह ने इसको अच्छा संकेत बताया। सरपंच ने भी बधाई दी।

खबरें और भी हैं...