नेशनल डाक्टर डे पर विशेष / घर छोड़ ड्यूटी पर डटे, कोरोना मरीजों के साथ ओपीडी व इमरजेंसी भी संभाली

Leaving home, went on duty, also took OPD and Emergency with Corona patients
X
Leaving home, went on duty, also took OPD and Emergency with Corona patients

  • कोरोना संक्रमण काल में मार्च से 24 घंटे मरीजों की देखभाल कर रहे डाक्टर
  • इसलिए दे पा रहे वायरस को मात

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 06:10 AM IST

बठिंडा. कोरोना संक्रमण में अगर किसी ने सबसे कठिन दौर को देखा है तो वह है हमारे बहादुर डाक्टर योद्धा, जिन्होंने मार्च माह से एक तरह से अपने घरों को त्याग कर दिन रात सिविल अस्पताल के अलावा आइसोलेशन वार्डों को ही अपना घर मानते हुए दिन के 24 घंटे कोरोना मरीजों के इलाज के अलावा ओपीडी व इमरजेंसी सेवाओं को सुचारू रूप से चलाने में अपनी पूरी ताकत झोक दी।

इसी में शामिल हैं सिविल अस्पताल की टीम के एमडी मेडिसिन डा. हरिंदर सिंह व डा. रमण गोयल, जिन्होंने कोरोना काल में शुरू से लेकर अब तक एक नहीं, बल्कि तीन से चार ड्यूटियों को पूरी शिद्दत से निभाया है।

परिवारों को त्याग कर यह डाक्टरों ने मरीजों को ठीक करना ही ध्येय बना लिया था। बठिंडा के साथ गांव घुद्दा तथा श्री मुक्तसर साहिब के सिविल अस्पताल का एडिशनल चार्ज लेकर डाक्टर्स अभी तक ड्यूटी में बिना थके जुटे हुए हैं।

गांव घुद्दा के अलावा बठिंडा में भी ट्रिपल ड्यूटी निभा रहे एमडी मेडिसन डा. हरिंदर सिंह

एमडी मेडिसन डा. हरिंदर सिंह की ड्यूटी पूरी सख्त थी। बठिंडा से गांव घुद्दा में कोरोना आइसोलेशन सेंटर को शिफ्ट करने के बाद से यह वहां ड्यूटी पर पहले दिन ही तैनात हो गए थे।

वहां 20 से अधिक कोरोना मरीज दाखिल रहे तो डा. हरिंदर ने उनका एक परिवार के तौर पर ध्यान रखते हुए उन्हें हर तरह से हौसला प्रदान किया। वहीं उनके रहने व खाने-पीने तथा दवा का पूरा ध्यान रखा, जिसका नतीजा यह हुआ कि सभी मरीज ठीक होकर अपने घरों को वापस लौटे।

वहीं बठिंडा के ओपीडी व इमरजेंसी में भी डाक्टर बिना थके ड्यूटी कर रहे हैं। लंबे समय तक खुद को परिवार से दूर कर यह लोग अभी भी डयूटी को तरजीह देकर मरीजों को ठीक करने में जुटे हैं।  

बिना थके सिविल अस्पताल की इमरजेंसी, ओपीडी और आइसोलेशन में ड्यूटी दे रहीं डा. रमण गोयल

सिविल अस्पताल बठिंडा में दूसरी डाक्टर एमडी मेडिसन डा. रमण गोयल बठिंडा के सिविल अस्पताल में एक नहीं, मल्टीपल ड्यूटी को पूरा कर रही हैं। कोरोना काल से ही खुद को परिवार से दूर कर डा. रमण सिविल अस्पताल बठिंडा में ओपीडी, इमरजेंसी के अलावा कोरोना आइसोलेशन सेंटर में मरीजों की देखभाल में जुटी थीं।

यहीं नहीं, उनके पास श्री मुक्तसर साहिब के सिविल अस्पताल का एडिशनल चार्ज था, जहां उन्होंने सप्ताह में दो से तीन दिन वहां डयूटी निभाई तथा डयूटी का यह काम अभी भी जारी है।

एक साथ मल्टीपल सेवाओं को जारी रखने के बावजूद उन्होंने परिवार को पीछे कर पहले काम को देखा तथा अभी भी ऐसा ही सफर जारी है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना