पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय:सीयूपी का शाेध जर्नल ऑफ फाइटोकेमिस्ट्री’ में प्रकाशित

बठिंडा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भेषज विज्ञान और प्राकृतिक उत्पाद विभाग, पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय के संकाय ने स्टीविओसाइड से एंजाइमैटिक बायोट्रांसफार्मेशन द्वारा प्राकृतिक मिठास-प्रदाता पदार्थ (स्वीटनर) ‘रीबौडिओसाइड ए ‘के संश्लेषण के लिए एक रणनीति विकसित की है। इसके शोध निष्कर्ष अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्ध शोधपत्रिका ‘जर्नल ऑफ फाइटोकेमिस्ट्री’ में प्रकाशित हुए हैं।

विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने स्टीविया रीबौडियाना में मधुमेहरोधी गुणों की खोज की है, जिसके निष्कर्ष एक अन्य अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त ‘जर्नल ऑफ नेचुरल प्रोडक्ट रिसर्च’ में प्रकाशित हुए हैं। यह शोधकार्य विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार तथा यूजीसी द्वारा प्रायोजित किया गया था।

कुलपति प्रो. राघवेंद्र प्रसाद तिवारी ने इस शोधकार्य के लिए भेषज विज्ञान और प्राकृतिक उत्पाद विभाग के संकाय को बधाई दी। डीन अनुसंधान प्रो. अंजना मुंशी ने कहा कि 20-79 आयु वर्ग के बीच दुनिया भर में लगभग 28.5 करोड़ लोग मधुमेह से पीड़ित हैं। 7.75 करोड़ मधुमेह रोगियों के साथ भारत मधुमेह की राजधानी बन गया है, जो चीन के बाद दूसरा सर्वाधिक मधुमेह रोगियों वाला देश है।

एस. रीबौडियाना पत्तियों में स्टीविओसाइड की सांद्रता रीबौडायसाइड-ए से अधिक है। लेकिन स्टेवियोसाइड की स्वाद-उपरांत कड़वाहट और पानी में कम घुलनशील होने के चलते इसका मनुष्य द्वारा उपभोग नहीं किया जाता है, और इसीलिए खाद्य और दवा उद्योग में भी इसका उपयोग सीमित हो जाता है।

उन्होंने कहा रीबौडायसाइड-ए को स्टीविओसाइड की तुलना में अधिक मीठा होने के कारण पसंद किया जाता है, जिसमें पानी की बेहतर घुलनशीलता और स्वाद-उपरांत कड़वाहट से रहित होता है। इसके अलावा, रीबौडायसाइड-ए को यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन और अन्य अंतरराष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा प्राधिकरणों से सकारात्मक सुरक्षा मूल्यांकन प्रमाणीकरण प्राप्त है।

उन्होंने जोर देते हुए बताया कि हमारे विश्वविद्यालय के भेषज विज्ञान और प्राकृतिक उत्पाद विभाग के संकाय डॉ. विकास जैतक ने एंजाइमैटिक बायोट्रांसफॉर्मेशन द्वारा स्टेविओसाइड से प्राकृतिक स्वीटनर रीबौडायसाइड-ए के संश्लेषण के लिए एक रणनीति विकसित की है।

यह मधुमेह के रोगियों के लिए प्राकृतिक कैलोरी-रहित मिठास का आनंद ले पाने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। भेषज विज्ञान और प्राकृतिक उत्पाद विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. विकास जैतक ने बताया कि वर्तमान में बाजार में उपलब्ध स्टीविया से बने सभी प्राकृतिक स्वीटनर में बड़ी मात्रा में स्टेवियासाइड होता है। हमारे शोध परिणाम का उपयोग मधुमेह के रोगियों के लिए प्राकृतिक कैलोरी-रहित स्वीटनर के रूप में प्राकृतिक रीबौडायसाइड-ए के निर्माण के लिए किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें