पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ठगी:रिटायर्ड कर्नल ने खोली आर्मी ट्रेनिंग अकेडमी, युवाओं को झांसा-घर बैठे मिलेगा नियुक्ति पत्र

बठिंडाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फाैज में भर्ती का झांसा देकर 15 युवाओं से ठगे 85 लाख रुपए

(चंदन ठाकुर) मौड़ मंडी के 40 युवाओं को फौज में भर्ती करवाने का झांसा देकर एक करोड़ 40 लाख रुपए ठगने के मामले के बाद बेरोजगार युवाओं को सरकारी नाैकरी दिलाने का झांसा देकर ठगने वाले एक और गिरोह का पर्दाफाश हुआ है। तलवंडी साबो और मानसा के 15 के करीब युवाओं को सेना में भर्ती करवाने के लिए 85 लाख रुपए ठग लिए।

इन युवाओं को ठगने वाला कोई और नहीं बल्कि भारतीय फौज से रिटायर्ड कर्नल है जिसने रिटायरमेंट के बाद युवाओं को आर्मी की ट्रेनिंग के लिए अकेडमी खोली, लेकिन आराेपी ने अकेडमी का फायदा उठाकर ग्रामीण युवाओं को फौज में भर्ती करवाने का झांसा देकर उनको ठग लिया। यहीं नहीं आरोपी रिटायर्ड कर्नल ने अपने दो साथियों से मिलकर सेना में भर्ती होने वाले युवाओं को फर्जी नियुक्ति पत्र तक दे दिए।

जब युवाओं को ठगी का पता चला तो आरोपी रिटायर्ड कर्नल अपने साथियों के साथ फरार हो गया। मामला पुलिस के पास पहुंचने के बाद डीएसपी तलवंडी साबो ने जांच करवाई और आरोप सही पाए जाने के बाद रिटायर्ड कर्नल नरिंदर सिंह वासी संगरूर, इकबाल सिंह उर्फ एकम वासी देसू जोधा हरियाणा व बलविंदर सिंह वासी माहींनगल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है।

ठगी का शिकार हुए युवा मध्यवर्गीय परिवार से हैं जिनमें से किसी ने आढ़ती से पैसे ब्याज पर लिए तो किसी ने जमीन बेच दी तो किसी ने गहने गिरवी रखकर आरोपियों को नौकरी के लिए लाखों दिए थे। तलवंडी साबो पुलिस को दी शिकायत में लखवीर सिंह वासी रामां मंडी ने बताया कि वो 12वीं पास है और बेरोजगार था और नौकरी की तलाश में था। 2019 में उसने धालीवाल अकेडमी संगरूर के नाम का एक विज्ञापन पढ़ा।

उसने अकेडमी के मैनेजर इकबाल सिंह उर्फ एकम सिंह से संपर्क किया तो उसने उसे विश्वास दिलाया था कि भर्ती के लिए कहीं पर जाने की जरूरत नहीं और उनको घर बैठे ही नियुक्ति पत्र दे देंगे। आरोपी इकबाल सिंह ने उनसे नंबरदार बलदेव सिंह व जसवंत सिंह के सामने 3 लाख रुपए ले लिए। आरोपियों ने करीब छह महीने के बाद उसे एक नियुक्ति पत्र दिया जिसकी उसने जांच करवाई तो वो जाली निकला।

इसके बाद वह उक्त जाली नियुक्ति पत्र लेकर बलदेव सिंह नंबरदार और जसवंत सिंह के पास पहुंचा और वहीं से उक्त धालीवाल अकेडमी चलाने वाले इकबाल सिंह व उसके साथी पैसे देने से मुकर गए और भगोड़े हो गए। इससे पहले युवाओं को फौज में भर्ती करवाने का झांसा दे मानसा के राजपाल सिंह उसकी पत्नी नेकपाल कौर जसपाल सिंह वासी मंडी खुर्द ने बठिंडा 40 के करीब युवाओं से 1.40 करोड़ रुपए ठग लिए थे।

किसी ने ब्याज पर पैसे लिए तो किसी ने अपनी जमीन बेचकर दिए पैसे गंवाए

आरोपी रिटायर्ड कर्नल नरिंदर सिंह जो 2014-2015 में भारतीय सेना से रिटायर्ड होकर आया था। उसने अपने मामा प्रताप सिंह धालीवाल को विश्वास में लेकर उनके नाम संगरूर में एक अकेडमी धालीवाल ग्रुप के नाम से खोल ली। जिसे नरिंदर सिंह ने अपने मामा प्रताप सिंह के नाम पर रजिस्टर्ड करवाया।

नरिंदर सिंह ने मोटी कमाई करने के लिए इकबाल सिंह उर्फ एकम व बलविंदर सिंह उर्फ बूटा सिंह से मिलकर एक दफ्तर तलवंडी साबो में धालीवाल ग्रुप के नाम से खोल लिया। उसने अपने दो साथियों से मिलकर 15 के करीब युवाओं को फौज में भर्ती करवाने के लिए 85 लाख रुपए ले लिए और सभी को फर्जी नियुक्ति पत्र दे दिए।

झांसे में आने के बाद ये लोग हुए ठगी का शिकार

आराेपियाें ने लखवीर सिंह वासी रामां से 6 लाख, गुरदीप सिंह, चमकौर सिंह व अवतार सिंह वासी धींगड़ से 11 लाख रुपए, जीवन सिंह वासी बप्पीआणा से 5 लाख रुपए, बलविंदर सिंह व नैब सिंह वासी राम नगर भट्‌ठल से 10 लाख रुपए, हरदीप सिंह वासी गहलेवाला से 2 लाख रुपए, संदीप सिंह वासी मैनुआणा से 5 लाख रुपए, गुरप्रीत सिंह वासी राजगढ़ कुब्बे से 2 लाख रुपए 50 हजार रुपए, गुरपाल सिंह वासी तख्त मल से 6 लाख रुपए, गुरजीत सिंह वासी मलकाणाा से 5 लाख रुपए, देवी दयालवासी गहलेवाला से 1 लाख रुपए, धर्मप्रीत वासी गहलेवाला से 4 लाख रुपए, राम सिंह व गुरप्रीत सिंह वासी कालियांवाली से 14 लाख रुपए, हरजिंदर सिंह वासी मानसा से 1 लाख रुपए, हरबंस सिंह वासी गहलेवाला से 5 लाख रुपए, गुरजीत सिंह वासी झंडूके से 2 लाख 75 हजार रुपए आदि से 85 लाख रुपए ठग लिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें