लापरवाही / स्टाफ नर्स की कमी, दर्जा चार कर्मी चढ़ा रही ग्लूकोज

Shortage of staff nurse, four workers are getting glucose status
X
Shortage of staff nurse, four workers are getting glucose status

  • सरकारी अस्पताल में 35 स्टाफ नर्स की आवश्यकता है जबकि मात्र 24 स्टाफ नर्स तैनात हैं

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

बठिंडा. जिले के सबसे बड़े वुमेन एंड चिल्ड्रन अस्पताल में मरीजों के साथ लापरवाही नहीं रुक रही। यहां पर मरीजों की देखभाल और इंजेक्शन व ग्लूकोज लगाने जैसे काम के लिए स्टाफ नर्स तैनात किए गए हैं। लेकिन शुक्रवार दोपहर करीब डेढ़ बजे अस्पताल के वार्ड में इलाज के लिए दाखिल महिला मरीज को ग्लूकोज लगाते एक चतुर्थ श्रेणी महिला कर्मचारी को देखा गया। जबकि अस्पताल प्रशासन की ओर से उक्त वार्ड में स्टाफ नर्स भी तैनात किया गया है।

इसके बवजूद उक्त चतुर्थ श्रेणी की महिला कर्मचारी मरीज को ग्लूकोज लगाने की परमिशन किसने दी इसका जवाब किसी के पास नहीं। अस्पताल कर्मचारियों का कहना है कि अस्पताल में स्टाफ की कमी है, जिसके चलते ऐसी समस्या आ रही है। अस्पताल के विभिन्न वार्ड जिसमें थैलेसीमिया वार्ड, पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट, डेंगू वार्ड, फीमेल वार्ड में इवनिंग के बाद मात्र एक स्टाफ नर्स के भरोसे होता है। अस्पताल के बाल विभाग में बच्चों के माहिर 4 डॉक्टर और महिला रोग विशेषज्ञ 5 डाक्टर तैनात है।

अस्पताल में डाक्टर तो पर्याप्त है लेकिन वार्डों में दाखिल बीमार बच्चे व महिलाओं की देखरेख के लिए पर्याप्त स्टाफ ही नहीं है। अस्पताल में 35 स्टाफ नर्स की आवश्यकता है। मात्र 24 स्टाफ नर्स तैनात हैं। अलग-अलग विभागों में 4-4 की टीम के साथ 5 वार्डों में ड्यूटी लगाई जाती है। अस्पताल की ओटी और लेबर रूम 24 घंटे चलता है, जिस कारण इवनिंग व नाइट में ड्यूटी के लिए स्टाफ नहीं होता। जबकि सेहत विभाग की ओर से अस्पताल में डाक्टर व स्टाफ नर्सों का मानक निर्धारित है।

मामला मेरे ध्यान में नहीं, चेक करवाएंगे

इस मामले में जब एसएमओ चिल्ड्रन हॉस्पिटल के सुखजिंदर गिल से बात की गई तो उन्होंने कहा की यह मामला मेरे ध्यान में नहीं है इसको कल ही मै चेक करवाता हूं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना