बेटे को परिवार ने बांधा जंजीरों में:परिजन बोले- मानसिक रूप से बीमार, खुला छोड़ने पर करता है तोड़फोड़ और मारपीट

बठिंडा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक परिवार अपने जवान बेटे को जंजीरों में बांध कर रखता है। युवर हर समय कैदी की तरह रहता है। परिजन ही उसे खाना खिलाते हैं और जंजीरों में बंधे ही उसकी देखरेख करते हैं। जब परिवार से ऐसा करने की वजह पूछी गई तो उनकी बात सुनकर किसी का भी दिल भर आए।

यह कहानी है पंजाब के बठिंडा में तलवंडी साबो के मलकाना गांव में रहने वाले एक परिवार की, जो अपने बेटे को घर में जंजीरों से बांध कर रखने को मजबूर है। परिवार का कहना है कि बेटा मानसिक रूप से बीमार है। उसे खुला छोड़ दिया जाए तो वह परिजनों और गांव वालों को परेशान करता है।

वह तोड़फोड़ करता है और कपड़े उतारकर गांव में घूमता है। जिसके कारण उसे जंजीरों से बांध के रखना पड़ता है। बेटा ग्रामीणों को इस हद तक परेशान करता है कि वह उसे पीट भी देते हैं। घर आकर उलाहना देते हैं और उसे भला-बुरा कहते हैं। परिवार ने युवक का अपनी हैसियत के मुताबिक इलाज करने की कोशिश की, लेकिन वह ठीक नहीं हुआ। युवक की मां ने प्रदेश सरकार से बेटे का इलाज कराने की मांग की है।