मनरेगा वर्करों को रोजगार दिया गया:घग्गर दरिया के बांधों की मजबूती के लिए मनरेगा के तहत खर्चे 59.50 लाख

संगरूर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बांधों की मजबूती के लिए इस साल किए प्रबंधों की एडीसी (विकास) ने दी जानकारी

जिला संगरूर के ब्लाॅक अनदाना, मूनक में से गुजरने वाले घग्गर दरिया के बांधों की मजबूती के लिए इस साल दौरान 59.60 लाख रुपए खर्च किए जा चुके हैं। इस संबंधी जानकारी देते अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास) रजिंदर सिंह बत्रा ने बताया कि घग्गर दरिया की सीमा ब्लाक में खनौरी से लेकर ग्राम पंचायत कड़ैल तक करीब 40 किलोमीटर है।

एडीसी रजिंदर बत्रा ने कहा कि बारिश के मौसम में दरिया में काफी पानी आ जाता है। इस कारण बांध टूटने का खतरा बना रहता है। बारिश के मौसम से पहले इसकी सफाई व मुरम्मत का काम पंचायतों द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दरिया के बांध टूटने से बचाने के लिए सरकार द्वारा बड़े स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। मनरेगा योजना अधीन बाढ़ की रोकथाम के लिए इसके बांधो की मजबूती के लिए अधिक से अधिक मनरेगा वर्करों को रोजगार दिया गया है।

उन्होंने बताया कि पिछले साल दौरान बाढ़ की रोकथाम के लिए मनरेगा स्कीम के तहत 60 लाख रुपए की लागत से 25 हजार दिहाड़ी जनरेट करके मनरेगा लाभपात्रियों को रोजगार दिया गया था। ब्लाॅक अनदाना में कुल 39 ग्राम पंचायतें हैं जिसकी कुल आबादी करीब 84 हजार है। इस ब्लाॅक में मनरेगा स्कीम तहत कुल 8383 जॉब कार्ड बनाए जा चुके हैं। इनमें से 6520 जॉब कार्ड एक्टिव हैं।

उन्होंने बताया कि ब्लाॅक के 26 गांव घग्गर दरिया के बांध की मार अधीन आते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा घग्गर दरिया के कमजोर बांधों की मजबूती के लिए मशीनों की मदद से घग्गर दरिया के मोड़ पर जमा हुई मिट्टी निकालकर पानी के बहाव की रुकावट को दूर किया गया और बांधों को और चौड़ा किया गया। मनरेगा मजदूरों को थैले भरने के लिए मिट्टी भी उपलब्ध करवाई गई। इस कारण इस साल में किसानों की फसल को होने वाले भारी नुकसान से बचाया जा सका।

खबरें और भी हैं...