पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समागम:बापू असी तेरे करके कमान जोगे हो गए हां, साल पहले ऑस्ट्रेलिया में नस्ली हमले का शिकार मनमीत अलीशेर की बरसी मनाई

संगरूरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अधवाटे सफर दी सिरजणा- मनमीत अलीशेर- पुस्तक का लोकार्पण

4 वर्ष पहले ऑस्ट्रेलिया में नस्लभेदी हमले में मौत का शिकार संगरूर के मनमीत अलीशेर की बरसी पर उनकी अपनी हाथों लिखी यादों और दोस्तों की भावनाओं पर आधारित अधवाटे सफर दी सिरजणा- मनमीत अलीशेर- पुस्तक का लोकार्पण किया गया। इस मौके पर उनकी याद में रखे गए समारोह में पंजाब के प्रसिद्ध शायर और पंजाब कला परिषद के चेयरमैन पद्मश्री सुरजीत पात्र, सूफी गायब कंवर ग्रेवाल, पंजाबी गायक हर्फ चीमां, पूर्व संसदीय सचिव प्रकाश चंद गर्ग, पीआरटीसी के पूर्व उपचेयरमैन विनरजीत सिंह गोल्डी विशेष तौर पर शामिल हुए। बुधवार को ही इस पुस्तक का ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका, कनाडा, लंदन व इटली में भी लोकार्पण किया गया है।

समागम की शुरूआत मुख्य मेहमान सुरजीत पात्र, सूफी गायक कंवर ग्रेवाल, मनमीत के पिता मास्टर राम सरूप अलीशेर, भाई अमित अलीशेर, विनरजीत गोल्डी और राज कुमार अरोड़ा द्वारा शमा रोशन कर की गई। पुस्तक लोकार्पण के बाद सुरजीत पात्र ने मनमीत को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि मनमीत की जिंदगी का सफर ईमानदार छवि का रहा है। वह युवा लेखक थे और मनमीत ने बहुत कम समय में ऑस्टेलिया में अपनी जगह बनाई थी। यही कारण रहा है कि मनमीत ऑस्ट्रेलिया के लोगों के दिलों में अभी भी बसता है। उन्होंने कहा कि इस पुस्तक के जरिये मनमीत जिंदगी भर लोगों के दिलों में रहेगा।

मनमीत ने आस्ट्रेलिया में हर व्यक्ति की मदद की

मनमीत के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए ऑस्ट्रेलिया में हर संघर्ष का हिस्सा रहे विनरजीत सिंह गोल्डी ने कहा कि मनमीत ने आस्ट्रेलिया में हर व्यक्ति की दिल से मदद की थी। मनमीत की मौत के अगले दिन जब वह मनमीत के भाई अमित के साथ आस्ट्रेलिया पहुंचे तो वहां लोगों ने उनका बहुत साथ दिया। पहली बार मनमीत की याद में बने पार्क पर पंजाबी भाषा में बोर्ड लगाया गया है।

मनमीत पर फेंका गया था ज्वलनशील पदार्थ
बता दें कि 4 वर्ष पहले 28 अक्तूबर 2016 को मनमीत अलीशेर ऑस्ट्रेलिया के ब्रिसबेन में रोजाना की तरह बस चला रहा था। इस दौरान आस्ट्रेलिया मूल के एक व्यक्ति ने मनमीत पर एक ज्वलनशील पदार्थ फेंक दिया था। उसकी झुलसने से मौके पर ही मौत हो गई थी। इस दौरान देश- विदेश में भी इंसाफ के लिए लोग सड़कों पर उतरे थे।

कंवर ग्रेवाल बोले-मनमीत अपने शब्दों व गीतों के जरिये हमेशा जीवित रहेगा

सूफी गायक कंवर ग्रेवाल ने मनमीत के कलम से लिखा गीत-बापू असी तेरे करके कमान जोगे हो गए हां, टोर नाल जिंदगी जीन जोगे हो गए हां-अपनी आवाज में पेश कर सभी को मनमीत की यादों से जोड़ा और वाहेगुरु का जाप कर मनमीत को अपने अंदाज में श्रद्धांजलि दी। ग्रेवाल ने कहा कि संसार से बिछड़ा व्यक्ति कभी वापस नहीं आता परंतु मनमीत अपने शब्दों व गीतों के जरिये हमेशा जीवित रहेगा। मौके पर मनमीत के पिता मास्टर राम सरूप, भाई अमित अलीशेर, लेखक सतपाल भिखी, डॉ. सुमीत शम्मी, डॉ. नरविंदर कौशल, चरणजीत उड़ारी, राज कुमार अरोड़ा, स्वामी रविंदर गुप्ता, पंकज सेठी, सर्व प्रिया अत्री, एडवोकेट नरेश जुनेजा, ओपी अरोड़ा, अशोक सक्सेना, सुधीर वालिया, प्रवीन बांसल, रविंदर गुड्डू, नत्थू लाल ढींगरा, जसवीर खालसा उपस्थित थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें