बैठक / जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी 21, 24 और 27 जुलाई को संगरूर, पटियाला और बरनाला में देगी धरने

संगरूर में बैठक के दौरान जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी के सदस्य। संगरूर में बैठक के दौरान जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी के सदस्य।
X
संगरूर में बैठक के दौरान जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी के सदस्य।संगरूर में बैठक के दौरान जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी के सदस्य।

  • प्रधान मुकेश की अध्यक्षता में बैठक में लिया फैसला

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

संगरूर. जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी की बैठक प्रधान मुकेश मलौद की अगुवाई में हुई। बैठक को संबोधित करते हुए प्रधान मुकेश मलौद और सचिव परमजीत कौर ने कहा कि इस समय बडी संख्या में महिलाओं पर फाइनांस कंपनियों का कर्ज चढ़ा हुआ है, जिसका ब्याज महिलाएं अदा कर रही हैं।

अब लॉकडाउन के दौरान महिलाएं कर्ज अदा करने में असमर्थ हैं, क्योंकि कामकाज पूरी तरह ठप हो चुका है, परंतु कंपनियों वाले किस्तों के लिए लगातार महिलाओं को परेशान कर रहे हैं, जबकि आरबीआई द्वारा हिदायतें की गई है कि 31 अगस्त तक किसी से जबरी किश्त न भरवाई जाए, परंतु फाइनांस कंपनियों द्वारा सरेआम नियमों का उल्लंघन कर जबरी किस्तों की वसूली की जा रही है। 

उन्होंने कहा कि गांव घरानों में रिजर्व कोटे की पंचायती जमीन की पंचायत विभाग की नलायकी के कारण हुए डम्मी बोली के चलते गांव का माहौल तनाव वाला बना हुआ है। इसके चलते गांव का दलित भाईचारा एक माह से अपना हक प्राप्त करने के लिए खेत में मोर्चा लगाकर बैठा है, जिस कारण इन मांगों को लेकर तीन जिलों में अलग-अलग तिथियों को धरना-प्रदर्शन किया जाएगा।

इसके तहत 21 जुलाई को कैबिनेट मंत्री विजय इन्दर सिंगला की कोठी, 24 जुलाई को पटियाला के डीसी दफ्तर और 27 जुलाई को डीसी दफ्तर बरनाला के समक्ष धरने दिए जाएंगे। उन्होंने मांग की कि महिलाओं का पूरा कर्ज माफ किया जाए। वहीं, महिलाओं के लिए कर्ज का प्रबंध सहकारी सोसायटी और कम ब्याज पर किया जाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना