पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कृषि कानूनों का विरोध जारी:संगरूर में भाजपा नेता पुनिया के घर और सुनाम में ऋषिपाल की एजेंसी के सामने लगाया पक्का धरना

संगरूर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अपना पक्ष रखने के लिए आज दिल्ली में केन्द्रीय बैठक में हिस्सा लेेगी किसान यूनियन

कृषि कानून के विरोध में सड़कों पर उतरे विभिन्न किसान संगठनों की ओर से मंगलवार को भाजपा नेताओं के आवास और दुकानों को घेर लिया गया। संगरूर में किसानों ने भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व राष्ट्रीय उपप्रधान और किसानों से बातचीत करने के लिए बनाई गई कमेटी के सदस्य सतवंत पुनिया के निवास और सुनाम के भाजपा के सीनियर नेता प्रेम प्रेम गुगनानी की दुकान के समक्ष धरना लगा दिया।

देर शाम प्रेम गुगनानी की दुकान से धरना हटाकर भाजपा के जिला-2 के प्रधान ऋषिपाल खैरा की गैस एजेंसी के समक्ष धरना शुरू कर दिया गया है। किसानों ने एलान किया है कि किसानों के इन स्थानों पर पक्का धरने चलेंगे और आने वाले दिनों मे शहर में रोष मार्च करने के बाद विभिन्न भाजपा नेताओं का भी घेराव किया जाएगा।

उधर, बेनड़ा में धरने के दौरान किसान मेघराज नागरी की मौत के 5वें दिन भी परिवार को कोई मुआवजे की घोषणा नहीं हुई है। संगरूर में धरने को संबोधित करते हुुए किसान नेता मनजीत सिंह धनेर, जमहूरी किसान सभा के भरपूर दुगां, कुलहिंद किसान सभा के नच्छतर सिंह, भाकियू सिद्धूपुर के भीम सिंह व भाकियू राजेवाल के गुरमीत कपियाल ने कहा कि किसानों के संघर्ष के आगे झुकते केन्द्र सरकार ने बातचीत के लिए 14 अक्टूबर को दिल्ली में बैठक बुलाई है।

इस बैठक में किसान अपना पक्ष रखकर इन कानूनों को रद्द करवाएंगे। यदि बैठक में कोई नतीजा न निकला तो उनका प्रदर्शन अनिश्चित समय तक चलेगा। मौके पर हरदेव बख्शीवाला, बलवीर जलूर, जगसीर नमोल, भूूपिंदर लौंगोवाल, मंगतरात, कुलदीप सिंह, रछपिंदर जिम्मी, अमरीक सिंह गंढूयां, जसवंत तोलावाल, दरबारा छाजला, गोविंदर बडरूखां, गोबिंदर मंगवाल आदि उपस्थित थे।

पहली बैठक सचिव के साथ होने पर जाने से किया था इनकार : जोगिन्द्र सिंह

भाकियू एकता उगराहां के प्रधान जोगिन्द्र सिंह उगराहां का कहना है कि केन्द्र सरकार ने किसानों को बातचीत के लिए दो बार आमत्रिंत किया है। पहली बैठक सचिव के साथ रखी गई थी जिसे उन्होंने कबूल नहीं किया था क्योंकि किसान यूनियन की मांग थी कि बैठक प्रधानमंत्री या कृषि मंत्री के साथ होनी चाहिए। अब केन्द्रीय विभाग की ओर से बैठक बुलाई गई है। ऐसे में वह बैठक में भाग लेकर अपना पक्ष रखेंगे और उनका पक्ष सुना जाएगा।

यूनि. का आरोप- किसान परिवार के मुआवजे संबंधी प्रशासन नहीं दे रहा कोई आश्वासन

बेनड़ा में प्रदर्शन के दौरान किसान मेघराज की मौत के 5वें दिन भी पीडि़त परिवार को कोई मुआवजे की घोषणा नहीं हुई है। ऐसे में मृतक किसान का संस्कार भी नहीं हो सका है। भाकियू ने एलान किया है कि प्रशासन ने भी उन्हें कोई आश्वासन नहीं दिया। बुधवार को पेट्रोल पंप के सामने संगरूर-लुधियाना हाईवे पर धरना दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...