पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दूसरे दिन भी नहीं हो पाया अंतिम संस्कार:संदिग्ध परिस्थितियों में दम तोड़ने वाली युवती के परिजनों ने पेट्रोल पंप पर शव रखा, रात 11 बजे तक चलता रहा धरना

संगरूर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संगरूर में रणबीर कॉलेज के पास वाले पेट्रोल पंप पर युवती का शव रखकर प्रदर्शन करते परिजन। - Dainik Bhaskar
संगरूर में रणबीर कॉलेज के पास वाले पेट्रोल पंप पर युवती का शव रखकर प्रदर्शन करते परिजन।
  • परिवार का खर्च चलाने के लिए 3 महीने से पेट्रोल पंप पर नौकरी करती थी सिमरनजीत कौर
  • मौत के कारणों की जांच करने की मांग

शुक्रवार देर शाम संदिग्ध परिस्थितियों में दम तोड़ने वाली युवती का रविवार को भी संस्कार नहीं हो पाया। बेटी के मौत के कारणों की जांच करने की मांग को लेकर युवती के परिजनों ने रविवार देर शाम 5.30 बजे रणबीर कॉलेज के पास स्थित पेट्रोल पंप पर बेटी का शव रखकर धरना शुरू किया। जो रात 11 बजे तक चलता रहा। परिजनों ने मांग की कि मौत के कारणों की जांच कर इंसाफ दिलाया जाए। साथ ही कहा कि जब तक आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर इंसाफ नहीं मिलेगा तब तक वह बेटी का अंतिम संस्कार नहीं करेंगें। उभावाल रोड स्थित सेखों कॉलोनी की रहने वाली भिंदरजीत कौर ने बताया कि उसकी 19 वर्षीय बेटी सिमरनजीत कौर बीए पास थी। वह तीन महीने से रणबीर कॉलेज के पास वाले पेट्रोल पंप पर नौकरी करती थी। शुक्रवार देर शाम बेटी के चाचा मनिंदर सिंह के घर पेट्रोल पंप से किसी ने फोन कर बताया कि सिमरनजीत कौर की हालत ठीक नहीं है। वह आकर उसे ले जाए। मनिंदर सिंह मोटरसाइकिल पर तुरंत पेट्रोल पंप पर गए। उस समय पंप के दो कर्मचारी सिमरनजीत को बाहर लेकर आए। बेटी को सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

6 महीने से बीमारी के कारण चारपाई पर हैं पति

मां भिंदरजीत कौर ने बताया कि उसके पति कुलविंदर सिंह 6 माह से बीमारी के चलते चारपाई पर पड़े हैं। छोटा बेटा 12वीं कक्षा में पढ़ रहा है। जबकि वह लोगों के घरों में काम करती है। परिवार के गुजारे के लिए सिमरनजीत पेट्रोल पंप पर नौकरी करती थी। शुक्रवार देर शाम संदिग्ध परिस्थितियों में उसकी मौत हो गई। मौत के बारे में पेट्रोल पंप मालिक कुछ नहीं बता रहे हैं और न ही बेटी के बीमार होने की जानकारी समय पर दी। उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों की कोई सुनवाई नहीं होती है। पेट्रोल पंप पर युवती ने दम तोड़ दिया। बावजूद इसके पुलिस आरोपियों पर कार्रवाई नहीं कर रही है। उनका कहना है कि जब तक उन्हें इंसाफ नहीं मिलेगा तब तक बेटी का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारण सामने आएंगे: एसएचओ

सिटी एसएचओ गुरवीर सिंह ने बताया कि पीड़ित परिवार के बयान दर्ज कर लिए गए हैं। अभी मौत के कारणों संबंधी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का सही पता चल सकेगा। पुलिस कार्रवाई करेगी। पुलिस पर किसी तरह का दबाव नहीं है। पुलिस इंसाफ दिलाएगी।

खबरें और भी हैं...