पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

40 डिग्री तापमान में प्रदर्शन:बेरोजगारों ने 3 किमी. तक सीएम शिक्षा मंत्री का पुतला सड़क पर घसीटा, 3 घंटे हाईवे रखा जाम

संगरूरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुधवार का दिन शहर में धरने और प्रदर्शन के नाम रहा है। विभिन्न मांगों को लेकर न्यू बेरोजगार पीटीआई अध्यापक यूनियन, मिनिस्टीरियल सर्विस यूनियन, मास्टर कैडर यूनियन पंजाब, जल सप्लाई तालमेल संघर्ष कमेटी और बेरोजगार सांझा मोर्चा के सदस्य 40 डिग्री तापमान में सड़कों पर नजर आए हैं।

मांगों को लेकर गुस्साए न्यू बेरोजगार पीटी अध्यापक यूनियन के सदस्यों ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और कैबिनेट मंत्री विजयइंदर सिंगला का पुतला 3 किलोमीटर तक सड़क पर घसीटा है। इसके बाद शहर के बीच से गुजरते दिल्ली- लुधियाना हाईवे मार्ग पर पड़ते महावीर चौक में धरना देकर यातायात ठप कर दिया गया।

3 घंटे तक चौक जाम रहने के कारण वाहन चालकों समेत शहर निवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ा है। इस दौरान चौराहे की चारों सड़क जाम करने को लेकर यूनियन सदस्यों की सिटी पुलिस स्टेशन के एसएचओ से तकरारबाजी भी हुई है। चेतावनी दी गई कि यदि जल्द रोजगार मुहैया न करवाया गया तो आगामी समय में सरकार के समागम भंग किए जाएंगे और 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का बायकाट कर नेताओं को गांवों में दाखिल नहीं होने दिया जाएगा।

यूनियन प्रधान बोले- रोजगार के लिए 6 साल से डिग्रियां लेकर घूम रहे
यूनियन के प्रधान जसवीर सिंह गलोटी ने कहा कि वह अपनी डिग्रियां लेकर पिछले 6 वर्षों से दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। घर- घर रोजगार का वादा कर सत्ता में आए सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला के पास जब भी बेरोजगार रोजगार की फरियाद लेकर जाते हैं तो उन्होंने रोजगार की जगह पुलिस की लाठियां दी जा रही है।

पिछले 16 वर्षों से पंजाब सरकार ने पीटीआई अध्यापकों की पोस्टें नहीं निकाली हैं। जिस कारण स्कूलों में शारीरिक शिक्षा ठप पड़ी है। मौके पर अमनदीप कौर, हरमीत कौर, अमनदीप कंबोज, कुलवंत सिंह, दविंदर कुमार, मनवीर सिंह, अवतार सिंह, अरुण कपूर, संदीप सिंह, परमजीत सिंह, स्माइल कौर, सुमन जागडा, संदीप सिंह, रजिंदर कुमार और अन्य उपस्थित थे।

22 जून को शिक्षा मंत्री ने पोस्टें निकालने काे दिया था आश्वासन : जसवीर
जसवीर सिंह ने कहा कि 22 जून को उनकी शिक्षा मंत्री के साथ बैठक हुई थी। बैठक में शिक्षा मंत्री ने उन्हें दो दिन का समय दिया था कि पोस्टों सबंधी कैबिनेट में विचार किया जाएगा। जिसके बाद उन्हें पुख्ता जानकारी दी जाएगी। परंतु हर बार की तरह उनके साथ सिर्फ झूठा वादा ही किया गया है। प्रशासन की तरफ से उन्हें कोई जानकारी नहीं दी गई है।

जिस कारण बेरोजगार अध्यापकों में रोष की लहर है। उन्होंने मांग की कि पंजाब सरकार अपने घर घर रोजगार के वायदे के तहत उन्हें रोजगार मुहैया करवाने के लिए पोस्टों का विज्ञापन तुरंत जारी करे। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि सरकार ने ऐसा न किया तो आने वाले समय में सरकार के समागम भंग किए जाएंगे और 2022 के विस चुनाव में कांग्रेस का बायकाट किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...