पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सेमिनार:नई शिक्षा नीति के जरिए केंद्र सरकार शिक्षा को निजी हाथों में सौंपना चाहती है : शीरी बठिंडा

सुनाम20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पंजाब स्टूडेंट यूनियन शहीद रंधावा ने नई शिक्षा नीति 2020 पर करवाया सेमिनार

पंजाब स्टूडेंट यूनियन शहीद रंधावा की ओर से स्थानीय शहीद ऊधम सिंह सरकारी कॉलेज में नई शिक्षा नीति 2020 पर सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें पूर्व छात्र नेता शीरी बठिंडा ने मुख्य वक्ता के तौर पर शिरकत की। इसके बाद यूनियन की ओर से शहर में रोष मार्च भी निकाला गया।

सेमिनार को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता शीरी बठिंडा ने कहा कि केन्द्र सरकार ने कोरोना काल की आड में जहां खेती कानून बनाए है। वहीं शिक्षा क्षेत्र में भी बडे कदम उठाने के लिए नई शिक्षा नीति 2020 बनाई है। जोकि छात्र व लोक विरोधी है। नई शिक्षा नीति के अनुसार सरकार स्कूल, कॉलेज व यूनिवर्सिटी में पढाई सुधारों के नाम पर मुनाफे का धंधा बनाने के लिए निजी हाथों में सौंपना चाहती है। इसके अनुसार सरकार केवल प्राइमरी स्तर की शिक्षा पर ही पैसे खर्च करेगी जबकि इशके बाद की शिक्षा को लोगों की पुहंच से बाहर कर दिया जाएगा।

शिक्षा नीति देश भगत, विज्ञानी, बुधीजीवि और समाज का भला चाहने वाले विद्यवानों की लोक पक्षीय विचारधारों के उल्ट है। इस नीति के जरिए सरकार पुरात्व संस्कृति के नाम पर मुन स्मृति की महिला, दलित व किरत विरोधी विचारधारा छात्रों के मनो में थोपना चाहती है। जिससे बराबरी व अच्छे समाज के सपने को भविष्य के वारिसों(छात्रों) से छीना जा सके।

यह शिक्षा नीति पूरी तरह केन्द्रीकरन, भगवनाकरन व कार्पोरेटीकरन के लिए बनाई गई है। इसलिए इसे तुरंत रद करवाने की जरूरत है। इस मौके यूनियन के जिला प्रधान होशियार सिंह ने कहा कि नई शिक्षा नीति के बारे जागरूकता मुहिम चलाई जाएगी और इसे रद करवाने के लिए शैक्षणिक अदारों में सरगर्मिया तेज की जाएंगी। सेमिनार को डीटीएफ नेता विश्वकांत ने भी संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें