स्वास्थ्य विभाग:डेंगू-मलेरिया से बचने के लिए हफ्ते में दो दिन गमलाें और टंकी से पानी निकालकर सुखाएं

फाजिल्का2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिविल सर्जन फाजिल्का डॉ. तेजवंत सिंह ढिल्लों ने बताया कि विभाग द्वारा नेशनल वैक्टर बोर्न डिजीज कंट्रोल कार्यक्रम के तहत मलेरिया व डेंगू की रोकथाम के लिए जिला महामारी अधिकारी डॉ. सक्षम की अगवाई में शहरी और ग्रामीण क्षेत्राें में एंटी लारवा गतिविधियां शुरू की गई हैं। सिविल सर्जन द्वारा शहरी लोगाें से अपील की गई कि वे घरों, दुकानों व सरकारी कार्यालयों में मौजूद कूलर, गमलाें और टंकियों में हर शुक्रवार और रविवार को पानी निकालकर सुखा दें और मच्छराें की रोकथाम के लिए विभाग का सहयोग करें।

उन्हाेंने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियाें और नगर कौंसिल फाजिल्का की टीमाें ने इस संबंध में मलोट रोड के बाजार में जाकर मच्छर का लारवा चैक किया। टीमों ने वहां कूलर, गमले, टंकियां और खड़े पानी के स्रोत चैक किए और लारवा मिलने पर उसे नष्ट कर दिया। इसके बाद लोगों को मलेरिया, डेंगू से बचाव के लिए पोस्टर बांटे गए और इनकी जानकारी दी गई। इसके अलावा स्टेशन के निकट सांझ केन्द्र में जाकर डेंगू जागरूकता कैंप लगाकर लोगाें को भी डेंगू से बचाव बारे जानकारी दी गई। डॉ. सक्षम ने कहा कि हर शहरवासी की जिम्मेदारी बनती है कि वे अपने घर के फ्रिज की वाटर ट्रे, कूलर, छतों पर पड़े बर्तनों को हर शुक्रवार और रविवार को खाली करके सुखाएं। एेसा करने से मच्छर का लाइफ साइकिल ब्रेक हो जाता है।

इसके अलावा अगर किसी भी व्यक्ति को बुखार हो तो वह सिविल अस्पताल फाजिल्का के कमरा नंबर 21 में जाकर टेस्ट करवाए। ये टेस्ट मुफ्त होते हैं और यहां डेंगू का इलाज भी फ्री किया जाता है। इस डेंगू जागरूकता कैंप में कृष्ण लाल, स्वर्ण सिंह, रविंदर शर्मा, नगर कौंसिल के सुपरडेंट नरेश खेड़ा भी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...