स्कूल बस हादसा:जिस बस में बच्चे थे उसकी साल पहले खत्म हो गई थी वैधता, बस में नहीं था हेल्पर, ड्राइवर गिरफ्तार

बटाला2 महीने पहलेलेखक: जगनदीप सिंह
  • कॉपी लिंक
चाइल्ड राइट्स पंजाब स्टेट कमिशन फाॅर प्राेटेक्शन की मेंबर डाॅ.ज्याेति ठाकुर  बच्चाें का हाल जानने पहुंचीं। - Dainik Bhaskar
चाइल्ड राइट्स पंजाब स्टेट कमिशन फाॅर प्राेटेक्शन की मेंबर डाॅ.ज्याेति ठाकुर बच्चाें का हाल जानने पहुंचीं।

गांव बरकीवाल के नजदीक बुधवार को नाड़ काे लगी आग की चपेट में आने वाली जिस बस में 32 बच्चे सवार थे, उसकी वैधता एक साल पहले ही खत्म हाे चुकी थी। इसका माॅडल 2006 था। यह बस 15 साल तक चल सकती थी, लेकिन हैरानी की बात है कि वैधता खत्म हाेने के बावजूद फिर भी बस नियमाें की धज्जियां उड़ाते हुए बच्चाें समेत सड़काें पर दाैड़ रही थी। इस बस में ड्राइवर के अलावा और काेई नहीं था। हादसे से पहले ऐसी बसों पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई, इसका जवाब आरटीए गुरदासपुर सुखविंदर सिंह नहीं दे पाए।

घटना के अगले दिन वीरवार काे श्री गुरु हर राए पब्लिक स्कूल बंद रहा। वीरवार काे ट्रैफिक पुलिस बटाला, राेड सेफ्टी टीम गुरदासपुर और एजुकेशन सेल हरकत में आया। और 20 बसों का चालान किया। उधर पुलिस ने आरोपी ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है। आग में झुलसे बच्चाें 7 वर्षीय गुरप्रताप सिंह और 6 वर्षीय सहजप्रीत काैर काे दूसरे निजी अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है।

इन बच्चाें का हाल जानने के लिए वीरवार काे चाइल्ड राइट्स पंजाब स्टेट कमिशन फाॅर प्राेटेक्शन की मेंबर डाॅ.ज्याेति ठाकुर पहुंचीं। बच्चाें का हाल जानने के बाद डाॅ.ज्याेति ठाकुर ने बच्चाें के माता-पिता से बातचीत की और हादसे के बारे में जानकारी हासिल की। वहीं भारत भूषण आशू ने कहा, अगर घायल बच्चों के परिवार को कोई मदद चाहिए, तो हमारी पार्टी उनकी मदद करेगी। वहीं बच्चों के परिजन बोले नाड़ जलाने वाले की गलती है ड्राइवर ने तो बच्चों की जान बचाई है।

स्टेट कमीशन फाॅर प्राेटेक्टशन की मेंबर ने बच्चों का हाल जाना
चाइल्ड राइट्स पंजाब स्टेट कमिशन फाॅर प्राेटेक्टशन की मेंबर डाॅ.ज्याेति ठाकुर ने बताया कि यहां आकर उन्हें तसल्ली मिली है कि बच्चे बिल्कुल ठीक हैं। हादसे में जाे गलती हुई है, वह नाड़ जलाने के कारण हुई है।