जिला सामाजिक भलाई कार्यालय में पुराने रिकॉर्ड की अनदेखी:तीन पेटियों में है रिकॉर्ड, देखरेख न होने से 2 टूटीं, सड़ रहीं फाइलें

गुरदासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला सामाजिक भलाई कार्यालय में ताले लगी पेटियां,जोकि जंग लगने से नीचे से टूट चुकी हैं। - Dainik Bhaskar
जिला सामाजिक भलाई कार्यालय में ताले लगी पेटियां,जोकि जंग लगने से नीचे से टूट चुकी हैं।

जिला सामाजिक भलाई कार्यालय में पुराने रिकॉर्ड की अनदेखी हो रही है। कार्यालय के अंदर साइड में बने एक बिना दरवाजे के कमरे में कई सालों से 3 पेटियों में भर कर पुराना रिकॉर्ड रखा हुआ है, जिसकी संभाल नहीं की जा रही। सालों से ऐसे ही बिना देखरेख के जमीन पर पड़ी होने से पेटियों को जंग लग गया है और नीचे से टूट गई हैं। फाइलों के कुछ पन्ने फट कर पेटी के बाहर बिखरे पड़े हैं। वहीं, बारिश के दिनों में पेटियों पर बारिश का पानी पड़ता है। कई बार बारिश ज्यादा होने से पानी अंदर घुस जाता है। यही कारण है कि 2 पेटियां पूरी तरह से डैमेज हो चुकी हैं। कार्यालय स्टाफ के कुछ सदस्यों ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि यह पुराना रिकॉर्ड लंबे समय से अनदेखी का शिकार हो रहा है।

पेटियों में रिकॉर्ड नहीं : जिला अधिकारी
सामाजिक भलाई विभाग के जिला अधिकारी सुखविंदर सिंह का कहना है कि पेटियों में पड़ा सामान दफ्तर का रिकॉर्ड नहीं है। अगर किसी ऑफिस स्टाफ ने कहा है कि पेटियों में रिकॉर्ड है तो उन्होंने गलत सूचना दी है।

पुरानी फाइलें पेटियों में गल रहीं
तीनों पेटियों को ताला लगा हुआ है। दो पेटियां जमीन पर और तीसरी पेटी उनके ऊपर रखी हुई है। यहां शगुन स्कीम सहित अन्य पुरानी फाइलें पेटियों में पड़ी-पड़ी गल सड़ रही हैं। जिसको संभालने की और विभाग के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे। हालांकि जो पहले विभाग का जिला अधिकारी होगा, उन्होंने तो पेटियों को ताले लगाकर रखे हुए थे, क्योंकि पुराने रिकार्ड की किसी समय भी जरूरत पड़ सकती है। मगर अब देखरेख न होने से रिकॉर्ड खराब हो रहा है। वहीं जिस दुकान में रिकॉर्ड पड़ा है, उसकी हालत दयनीय बनी हुई है।

पुराने रिकॉर्ड को संभालना जरूरी
पुराने सरकारी रिकॉर्ड को संभालना बहुत जरूरी है, क्योंकि किसी समय भी किसी को भी पुराना केस खोलने की आवश्यकता पड़ सकती है। अगर विभाग के पास पुराना रिकॉर्ड ही नहीं होगा तो कहां से पुराने केस पर सुनवाई हो सकेगी। मगर यहां रख-रखाव की कमी के कारण विभाग का सारा सरकारी रिकॉर्ड खराब हो रहा है।

खबरें और भी हैं...