स्वास्थ्य टीम ने ड्राई डे मनाया:घर-घर जाकर लोगों को डेंगू-मलेरिया से बचाव के लिए किया जागरूक

कादियां5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य विभाग कादियां ने विभिन्न स्थानों पर जाकर ड्राई डे मनाया और डेंगू-मलेरिया मच्छर का लारवा चेक किया। हेल्थ इंस्पेक्टर कुलबीर सिंह ने बताया कि डीसी माेहम्मद इश्फाक के आदेशों व सिविल सर्जन डॉ.विजय कुमार और जिला एपिडेमोलॉजिस्ट डॉ.प्रभजोत कौर कलसी के निर्देशों पर कम्युनिटी हेल्थ सेंटर कादियां के सीनियर मेडिकल अफसर जतिंदर सिंह गिल के नेतृत्व में स्वास्थ्य टीम ने विभिन्न स्थानों पर जाकर ड्राई डे मनाया और डेंगू-मलेरिया मच्छर का लारवा चेक कर डेंगू-मलेरिया बुखार के कारण, लक्षण, उपचार व बचाव प्रति उपाय बताकर लोगों को जागरूक किया।

दुकानों पर पुराने टायरों के अंदर खड़े पानी, फ्रिजों के वेस्ट पानी की ट्रे, गमलों व गद्दों आदि से पानी सुखवाया और मच्छर का लारवा भी चेक किया। लोगों को जागरूक करते हुए टीम के मेंबरों ने बताया कि डेंगू-मलेरिया बुखार एनाफ्लीज नामक मादा मच्छर के काटने से होता है। इसके काटने से मनुष्य को बहुत तेज बुखार होता है। मासपेशियां दर्द होना, चमड़ी पर दाने, आंखों के पीछे वाले हिस्से में दर्द होना, नाक, मुंह व मसूड़ों में से खून बहना और हालत ज्यादा खराब होने से जान भी जा सकती है। इस मच्छर की पैदावार गड्ढों में खड़े बरसाती या साफ पानी पर होती है और मच्छर का लारवा बनता है।

इसलिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा अपील की जाती है कि प्रत्येक सप्ताह शुक्रवार को ड्राई-डे के तौर पर मनाया जाए। अपने घरों के कूलरों, फ्रिजों की वेस्ट पानी वाली ट्रे में से पानी को सुखाएं और बरसात के खड़े पानी पर जला हुआ तेल डालकर डेंगू-मलेरिया से सभी का बचाव करने में स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करें। अपने शरीर को पूरी तरह ढकने वाले कपडे पहनें, मच्छरदानी व मच्छर रोधी क्रीमें और अन्य यंत्रों का इस्तेमाल करें।

किसी प्रकार का भी बुखार होने पर डॉक्टर की सलाह के बिना दवाई न खाएं और तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जांच करवाकर इलाज करवाएं। उन्होंने बताया कि सरकारी अस्पताल में डेंगू-मलेरिया के टेस्ट व उपचार बिलकुल मुफ्त किया जाता है। यहां पर हेल्थ इंस्पेक्टर कुलबीर सिंह, सतपाल सिंह, बलविंदर सिंह, लखबीर सिंह, जुगराज सिंह, नरिंदर सिंह बिल्ला, अमनदीप मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...