वारदात:राजापाकर में द़ुकान बंद कर लौट रहे व्यवसायी की गोली मार हत्या

हाजीपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शव के साथ महुआ-हाजीपुर रोड जाम करते ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
शव के साथ महुआ-हाजीपुर रोड जाम करते ग्रामीण।
  • शुक्रवार की रात सुुंदरनगर के पास अपराधियों ने दिया घटना को अंजाम

राजापाकर प्रखंड अंतर्गत महुआ थाना क्षेत्र के सुंदर नगर हाट के पास शुक्रवार की रात बेखौफ अज्ञात अपराधियों ने दुकान बंद कर घर लौट रहे किराना व्यवसाई सह कन्हौली धनराज पंचायत की उप मुखिया के पति जितेन्द्र साह की गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक जितेंद्र साह रानीपोखर बाजार में किराए की मकान किराना दुकान चलाते हैं।
घर नहीं पहुंचे तो तलाश में निकले परिजन
प्रतिदिन की भांति जब वे समय से घर नहीं पहुंचे तो परिजनों की चिंता बढ़ी। मोबाइल पर खाली रिंग जा रहा था। कॉल रिसीव नहीं हो रहा था। किसी अनहोनी की आशंका से परिजन घबरा गए। परिजन खोजबीन के लिए रानीपोखर के लिए निकले। आगे बढ़ते ही पानापुर चौक के पास पहुंचे तो देखा की वे खून से लथपथ पड़े हैं । आनन फानन में परिजन उन्हे ईलाज के लिए सदर अस्पताल हाजीपुर ले गए जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मृतक की पत्नी उपमुखिया है। मृतक के दो पुत्र ऋषि और प्रियांश हैं। इस घटना के बाद परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। घटना की जानकारी होते ही इलाके से सनसनी फैल गई और सैकडों की संख्या में लोग सदर अस्पताल पहुंच गए।

हत्यारों की गिरफ्तारी और मुआवजा देने का आश्वासन
सड़क जाम की सूचना मिलने पर मौके पर महुआ के एसडीपीओ पूनम केसरी, मुख्यालय डीएसपी देवेंद्र प्रसाद, महुआ थाना अध्यक्ष विजय कुमार, सराय थाना अध्यक्ष अनिल कुमार, महुआ अंचलाधिकारी अधिकारी अमर कुमार सिन्हा, अजीत श्रीवास्तव भारी दलबल के साथ जाम स्थल पर पहुंचे और सड़क जाम कर रहे लोगों से बात की। हत्यारों की जल्द गिरफ्तार करने व पीड़ित परिवार को देय सरकारी मदद दिलाने का आश्वासन दिया तब जाकर घटना से आक्रोशित लोगों ने लगभग तीन घंटे बाद सड़क जाम समाप्त किया। गाड़ियों की लंबी लाइन लगी थी इसलिए रोड क्लियर होने में एक घंटा से भी अधिक समय लगा। कुल मिलाकर चार घँटे तक एसएच 49 जाम रहा।

विवादित दुकान ही हत्या की वजह तो नहीं
पुलिस व आम लोग हत्या का वजह नॉर्मली लूटपाट अथवा पूर्व की दुश्मनी मानकर चल रहे हैं। हालांकि रानीपोखर के लोगों का मानना है कि हत्या की वजह मृतक की किराना दुकान भी हो सकती है। बताया गया कि वह जिस मकान में किराए लेकर किराना दुकान खोल रखी है उसके पूर्व संचालक दिवाकर सिंह उर्फ सुमन सिंह के पुत्र दिनकर कुमार को अपराधियों ने 2 वर्ष पूर्व इसी तरह दुकान बंद कर रात को घर लौटने के दौरान महुआ थाना क्षेत्र के कर्णपुरा में गोली मारकर हत्या कर दी थी। उस समय भी उग्र ग्रामीणों ने रानीपोखर चौक पर हाजीपुर महुआ मुख्य मार्ग को जाम किया था। पुलिस प्रशासन ने आश्वासन दिया था कि अपराधियों की जल्द गिरफ्तारी होगी परंतु अभी तक घटना में एक भी अपराधी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी। दोनों घटनाओं में समानता को देखते प्रतीत होता है कि या तो वह दुकान या दुकान बिल्डिंग विवादित है।

शव के साथ आक्रोशितों ने एसएच किया जाम
महुआ थाने की पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया। परिजन व ग्रामीण शव लेकर गांव लौट गए। शनिवार की सुबह में शव के साथ ग्रामीणों ने महुआ-हाजीपुर मुख्य सड़क को पानापुर चौक को जाम कर हत्यारे की गिरफ्तारी, मृतक के आश्रितों को मुआवजा देने की मांग करने लगे। जाम की सूचना पर मौके पर महुआ थाना की पुलिस पहुंची पर लोगों के आक्रोश को देखते हुए जाम खत्म करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई। जाम के कारण सड़क के दोनों तरफ सैकड़ो गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई थी। पूर्वोत्तर राज्य व मिथिलांचल को जोड़ने वाली यह महत्वपूर्ण व सुगम स्टेट हाइवे है। सैंकड़ों की संख्या में लंबी दूरी व लोकल यात्री वाहन, मालवाहक जाम में फंसे हुए थे।

पुलिस पिकेट बनाने की मांग ठंडे बस्ते में
ग्रामीणों की मांग पर तत्कालीन वैशाली एसपी मनजीत सिंह ढिल्लों ने पुलिस पिकेट बनाने का आश्वासन दिया था। उनके बाद के एसपी ने इस दिशा में ध्यान नहीं दिया। लोगों का कहना है कि कन्हौली से लेकर बेलकुंडा तक का इलाका महुआ, सराय और राजापाकर थाना क्षेत्र की सीमाओं में बंटा है। तीनों ही थाना से रोड की दूरी अधिक है।

खबरें और भी हैं...