पशुपालकों को राहत:लंपी स्किन से बीमार 14 हजार पशु ठीक हो चुके, 66,863 पशुओं की वैक्सीनेशन

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मौसम बदलने के साथ कमजोर पड़ा वायरस

पशुओं में फैली लंपी स्किन बीमारी का असर मौसम बदलने के साथ ही अब कम होने लगा है, लिहाजा जो पशु इससे पीड़ित हुए थे, वह जल्द ठीक हो रहे हैं। विभाग के मुताबिक जिले में अब तक 66,863 पशुओं की वैक्सीनेशन हो चुकी है। जिले में लंपी स्किन बीमारी से अब तक कुल 459 पशुओं की मौत हो चुकी है। 20,234 पशु इस बीमारी की चपेट में आए थे, जिनमें से अब 14,116 पशु इलाज के बाद पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं। पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर हारून रतन ने बताया कि बरसात के मौसम में मक्खी-मच्छर ज्यादा होने के कारण भी इस बीमारी का हमला तेज रहा था और अब मौसम बदल रहा है।

वहीं, लंपी स्किन के कारण जिन लोगों के पशुओं की मौत हुई है वह मुआवजे के लिए पशुपालन विभाग तक पहुंच कर रहे हैं। गांव चडियाल के इंदरजीत ने बताया कि उसके पास एक उच्च नस्ल की गाय थी जो रोजाना 8-10 लीटर दूध देती थी। लंपी स्किन की चपेट में आने से उसकी मौत हो गई, जिससे 50 हजार रुपए का नुकसान हुआ और 12-15 हजार अलग से इलाज पर भी खर्च हुए। सरकार से मांग है कि मुआवजा राशि जारी करे। वहीं, गांव सज्जना के हरजिंदर सिंह ने बताया कि उसकी भी गाय की बीमारी से मौत हो गई। नया पशु खरीदने में सरकार मदद करे। गांव कडियाना के पलविंदर सिंह और जसबीर सिंह की भी एक-एक गाय की मौत इस बीमारी से हुई है और सरकार को मुआवजे के लिए लिखा है।

खबरें और भी हैं...