फाइलें लंबित:दिसंबर 2021 के बाद नहीं जारी हुई राशि, कई 5 साल से कर रहे ग्रांट आने का इंतजार

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में शगुन स्कीम की 3 हजार फाइलें लंबित

सूबे की अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़े वर्ग, गरीब बीपीएल परिवार की लड़कियों व श्रमिक कार्ड के परिवार की बेटियों को शगुन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। सूबा सरकार की तरफ से उक्त परिवारों की लड़की की शादी पर आर्थिक सहायता के तौर पर 51 हजार रुपए की राशि दी जाती है, लेकिन जिले में करीब 3000 परिवार हैं, जिन्हें शगुन की राशि का इंतजार है।

इसके लिए परिवार के सदस्य कई बार दफ्तरों के चक्कर काट चुके हैं। जिला समाज भलाई अधिकारी राजिंदर सिंह ने बताया कि दिसंबर 2021 के बाद अब तक कोई भी फाइल पास नहीं हुई है। जिले में 3 हजार फाइलें पेंडिंग हैं। यह फाइल विवाह से एक महीना पहले या एक महीना बाद तक जमा करवाई जा सकती है। पहले यह हमारे दफ्तर में सीधे तौर पर जमा हुआ करती थी लेकिन अब तहसील स्तर पर जांच के बाद आॅडिट होता है, उसके बाद हमारे दफ्तर की तरफ से सोशल जस्टिस इम्पावरमेंट एंड मिनिस्ट्री डायरेक्टर चंडीगढ़ कार्यालय भेजी जाती है।

खबरें और भी हैं...