गैस प्लांट में सिलेंडर फटा:300 मीटर दूर खेत में गिरी टांग, 2 मजदूरों की मौत, गैस भरते समय हुआ ब्लास्ट

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

होशियारपुर-जालंधर रोड पर स्थित कस्बा नसराला में शनिवार सुबह करीब 9.45 बजे जेके इंटरप्राइजेज गैस प्लांट में अचानक जोरदार धमाके के साथ गैस सिलेंडर फट गया, जिससे वहां काम कर रहे मजदूर भगवती सिंह (55) निवासी उत्तराखंड हाल निवासी नसराला की मौके पर ही मौत हो गई जबकि सूरज (नेपाल) हाल निवासी नसराला ने प्राइवेट अस्पताल में दम तोड़ दिया।

वहीं, एक अन्य मजदूर परमजीत सिंह निवासी गिगनोवाल (होशियारपुर) गंभीर जख्मी हो गया, जिसे सिविल अस्पताल होशियारपुर में भर्ती करवाया गया, जहां से उसे डीएमसी लुधियाना रेफर कर दिया गया है। घटना का पता चलते ही इलाके के गांवों के लोगों समेत पुलिस चौकी नसराला के एएसआई सुखविंदर सिंह पुलिस टीम समेत घटनास्थल पर पहुंचे। फैक्ट्री में काम करते मजदूरों ने बताया कि मृतक भगवती सिंह उक्त प्लांट में पीछे 22 साल से काम कर रहा था जबकि सूरज 16 साल से यहां काम करता था। परमजीत सिंह करीब 15 साल से यहां काम कर रहा है। पुलिस ने कहा कि मामले की जांच कर रहे हैं।

धमाके से शरीर के इतने टुकड़े हुए कि समेट कर इकट्‌ठे करने पड़े

धमाके के कारणों की जांच कर रहे : एएसआई

चौकी इंचार्ज सुखविंदर सिंह ने बताया कि धमाका कैसे और किस कारण हुआ इसकी जांच की जा रही है। इस्तेमाल किया जा रहा सिलेंडर एक्सपायर था या तकनीक में कोई खामी रही थी, इसकी पता लगाया जाएगा। शव को पोस्टमार्टम के लिए कब्जे में लेकर सिंगड़ीवाला शवगृह में रखवा दिया है।

बेटी बोली- खाना खाने दोपहर में आने को कहा, पर आ नहीं पाए

सिलेंडर फटने के कारण धमाका इतना जोरदार था कि बड़ी गिनती में पड़े सिलेंडर दूर-दूर तक बिखर गए। भगवती सिंह का शरीर दो टुकड़ों में बंट गया और चीथड़े उड़ गए। एक टांग करीब 300 मीटर दूर खेतों में जा गिरी। मजदूरों ने बताया कि शनिवार सुबह कर्मचारी काम कर रहे थे कि गैस भरते समय अचानक जोरदार धमाका हो गया। उक्त फैक्टरी के 2 प्लांट हैं। एक गैस प्लांट में मेडिकल ऑक्सीजन और दूसरी में वेल्डिंग में इस्तेमाल होने वाली गैस प्लांट की जाती है, जिसमें यह हादसा हुआ। उक्त फैक्टरी पिछले 50 साल से भी ज्यादा समय से चल रही है और भगवती सिंह यहां 22 साल से काम कर रहे थे। प्लांट में पहुंची भगवती सिंह की बेटी का कहना था कि पापा उसको कह कर गए थे कि वह थोड़ा काम निपटा कर दोपहर का खाना घर आकर खाएंगे, लेकिन वह नहीं आ पाए।

खबरें और भी हैं...