आचार्य सुमीत ने कहा:मन को नियंत्रित करने के लिए सत्संग जरूरी

कमाही देवी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ब्लॉक तलवाड़ा के गांव चमूही में सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का सफलतापूर्वक समापन हो गया। 7 मई से शुरू हुए इस धार्मिक कार्यक्रम में आचार्य सुमीत भारद्वाज ने भागवत कथा से भक्तों को जोड़ा। कामाक्षी देवी दरबार के महंत राजगिरि की अध्यक्षता में इस कार्यक्रम में बहुत सी आध्यात्मिक हस्तियों ने अपने सत्संग से भक्तों को निहाल किया। कथावाचक सुमीत भारद्वाज ने कथा के आखिरी दिन आए हुए लोगों को सत्संग के महत्व के बारे में जानकारी दी व कहा कि अपने मन को स्थिर और नियंत्रण में रखने के लिए सत्संग सबसे उपयुक्त साधन है। सत्संग से हमें मानसिक शांति एवं शक्ति मिलती और हमारा शरीर निरोग रहता है। इस अवसर पर भक्त तरसेम लाल शर्मा, किशोरी लाल शर्मा, सरपंच पवन कुमार, सुखदेव काला, ओम दत्त शर्मा, प्रिंसिपल सुरिंदर शर्मा आदि बड़ी संख्या में भक्त उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...