पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शव बदल दिया:अस्पताल प्रबंधन ने गुरदासपुर की बुजुर्ग का शव गांव माड़ी बुच्चियां भेेजा, परिवार वालों ने वापस किया

श्री हरगाेबिंदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गांव माड़ी बुच्चियां की महिला की बीमारी के चलते अमृतसर के गुरु नानक अस्पताल में मौत

गुरु नानक अस्पताल अमृतसर में बीमारी से महिला की माैत हाे जाने पर जब शव गांव माड़ी बुच्चियां लाया गया, ताे शव का चेहरा देखकर पारिवारिक मेंबर दंग रह गए, क्याेंकि वह शव किसी बुजुर्ग महिला का था। पारिवारिक मेंबर ने इसके बाद एंबुलेंस ड्राइवर काे एंबुलेंस समेत राेक लिया और थाना श्री हरगाेबिंदपुर पुलिस काे सूचित किया।

पारिवारिक मेंबर अजीत सिंह ने बताया कि उनकी बहू दलजीत काैर (39) पत्नी सेवा सिंह निवासी माड़ी बुच्चियां जाेकि पिछले काफी दिनाें से बीमार थी, उसे इलाज के लिए श्री गुरु नानक अस्पताल अमृतसर में दाखिल करवाया गया था, लेकिन उसकी 6 जुलाई काे माैत हाे गई।

उसका लड़का सेवा सिंह विदेश में रहता है, इसलिए उसके आने के इंतजार तक शव काे अस्पताल के मुर्दाघर में रखा गया था। बुधवार काे अंतिम संस्कार के लिए अस्पताल से एंबुलेंस के जरिए शव काे गांव लेकर अाए। अस्पताल प्रबंधन ने शव पूरी तरह से कवर किया था। जब उन्हाेंने एंबुलेंस से नीचे उतारते समय कवर खाेलकर मृतक बहू के चेहरे काे देखा ताे वह हैरान हाे गए, क्याेंकि वह शव उनकी बहू का नहीं था। बल्कि वह शव किसी 60 साल की बुजुर्ग का था। तभी उन्हाेंने एंबुलेंस और उसके ड्राइवर काे राेक लिया और पुलिस काे सूचित किया। पुलिस अधिकारियों ने जब अस्पताल प्रबंधकाें से मामले संबंधी जानकारी ली तो पता चला शव गलती से बदली हाे गया है। इसके बाद अस्पताल की तरफ से एक टीम भेजी गई, जाेकि मृतक बुजुर्ग के शव काे वापस अमृतसर ले गई और परिवार काे बहू का शव लेने के लिए वापस अमृतसर आने काे कहा गया।

गलती करने वाले पर होगी कार्रवाई
अस्पताल से आई टीम के अधिकारियाें ने बताया कि वह मृतक दलजीत काैर के शव काे परिवार को सुपुर्द किया जाएगा और जिस व्यक्ति की लापरवाही से शव की अदला-बदली हुई है, उसके खिलाफ अस्पताल प्रबंधन की तरफ से कार्रवाई की जाएगी।

गलती के चलते शव यहां पहुंचा: एसएचओ
थाना श्री हरगाेबिंदपुर की एसएचओ बलजीत काैर ने बताया कि जिस बुजुर्ग महिला का शव माड़ी बुच्चियां पहुंचा था, उसे एंबुलेंस से गुरदासपुर लेकर जाना था, लेकिन गलती से यह शव यहां पहुंचा दिया। परिवार काे उनके मृतक परिजन का शव अस्पताल प्रबंधन की तरफ से सुपुर्द कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...