पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बूटीफुल नहर:सरहिंद नहर में आई दरियाई बूटी चमकौर साहिब बेला पुल के नीचे फंसी, जल निकासी में बनी बाधा

चमकौर साहिब17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहाड़ों में बारिश से नदियां उफान पर

पहाड़ी क्षेत्र में हो रही बारिश के कारण हिमाचल की नदियों में फंसी दरियाई बूटी बुधवार को सुबह सरहिंद नहर पर चमकौर साहिब-बेला को आपस में जोड़ने वाले पुल के नीचे जमा हो गई। इसके चलते यहां से नहर का पानी आगे जाने में अवरोध पैदा हो रहा और पानी का लेवल कुछ ऊपर आ गया है। यह बूटी पुल के नीचे और नजदीक करीब 1 से डेढ़ किलोमीटर तक नहर में फैली हुई है।

बूटी को बाहर निकालने के लिए नहरी विभाग के अधिकारियों ने हाइड्रा और जेसीबी की सहायता से सुबह करीब 8:30 बजे काम शुरू कर दिया। शाम तक बूटी को निकालने का काम जारी था। नहर से जितनी बूटी निकाली जा रही है, उतनी पानी के साथ पीछे से और आ रही है। जिसके चलते काम में देरी हो रही है।

हिमाचल प्रदेश की छोटी नहरों में फंसी रहती है बूटी, अब ज्यादा पानी आने से टूटकर यहां पहुंची : जेई

इस संबंधी नहरी विभाग के जेई आकाशदीप बाली ने बताया कि हिमाचल में जो छोटी-छोटी नहरें बनी हुई हैं, उनमें जड़ी बूटियां फंसी रहती हैं। बारिश से पानी ज्यादा आने के कारण ये टूट कर सरहिंद नहर में आ रही हैं। विभाग की तरफ से इसे निकालने की पूरी कोशिश की जा रही है। हम इसे जल्द ही निकालकर पानी की सही ढंग से निकासी करवाएंगे।

पुल पर काम चलने से ट्रैफिक हो रहा प्रभावित
पुल पर ट्रैफिक भी प्रभावित रहा। क्योंकि चमकौर साहिब और बेला को आपस में मिलाने वाला यह इकलौता पुल है। चंडीगढ़, लुधियाना अौर रोपड़ जाने के लिए यहीं से निकलना पड़ता है। काम के दौरान आधे-पौने घंटे बाद धीरे-धीरे कुछ समय के लिए ट्रैफिक छोड़ा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...