वेबिनार का आयोजन:‘महिलाओं को सेक्सुअल हैरासमेंट एक्ट के तहत मिलता है कानूनी संरक्षण’

दीनानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस मौके पर डॉ. अंजना मल्होत्रा, दीपक ज्योति, प्रियंका गुप्ता ने भी शिरकत की

शांति देवी आर्य महिला कॉलेज दीनानगर में डॉ. अंबेडकर स्टडी सेंटर की ओर से प्रिंसिपल डॉ. रीना तलवाड़ की अध्यक्षता में सेक्सुअल हैरासमेंट ऑफ वुमेन एट वर्कप्लेस विषय पर वेबिनार का आयोजन किया गया। जिसमें डिस्ट्रिक्ट लीगल सर्विसेज अथॉरिटी गुरदासपुर की सेक्रेटरी नवदीप कौर गिल और मेंबर एडवोकेट प्रभदीप सिंह संधू बतौर मुख्य वक्ता शामिल हुए। सेक्रेटरी नवदीप कौर गिल ने सेक्सुअल हैरासमेंट से संबंधित कानूनी प्रावधानों का वर्णन करते हुए कहा कि यदि कार्य क्षेत्र में किसी के साथ अभद्र व्यवहार, अभद्र ढंग से देखना अथवा भेदभाव किया जाता है तो कानून में ऐसे प्रावधान हैं जिससे महिलाओं को सुरक्षा प्रदान की जाती है और दोषियों को सजा दी जा सकती है।

उन्होंने कहा कि छात्राओं को अगर किसी प्रकार भी समस्या आती है तो वह उनसे संपर्क कर सलाह अथवा अपनी शिकायत दर्ज करवा सकती हैं। एडवोकेट प्रभदीप सिंह ने भारतीय संविधान और इंडियन पिनल कोड के अनेक प्रावधानों के बारे में जानकारी दी। प्रिंसिपल डॉ. रीना तलवाड़ ने कहा कि महिलाएं भारतीय संस्कृति में महान स्थान रखती हैं। वेबिनार की कोऑर्डिनेटर और डॉ. अंबेडकर स्टडी सेंटर की डायरेक्टर डॉ. बत्रा ने कहा कि शिक्षा के प्रसार में और संविधान में समानता के अधिकार ने महिलाओं को कार्य क्षेत्र में काम करने के लिए कई आयाम प्रदान किए हैं। महिलाओं को सुरक्षित माहौल प्रदान करने के लिए सरकार की तरफ से तीन कानून बनाए गए हैं। इस मौके पर डॉ. अंजना मल्होत्रा, दीपक ज्योति, प्रियंका गुप्ता ने भी शिरकत की।

खबरें और भी हैं...