पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ब्लैक फंगस के टेस्ट की सुविधा नहीं:अभी तक गुरदासपुर सिविल में नहीं लगी सीटी स्कैन की मशीन

गुरदासपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण के बीच ब्लैक फंगस ने जिले में लोगों को अपना शिकार बनाना शुरू कर दिया है। महामारी घोषित होने के बाद भी जिले में इसके इलाज की कोई व्यवस्था नहीं है। इलाज तो दूर इस बीमारी से संबंधित टेस्टिंग और सैंपलिंग की सुविधा भी नहीं है। जिले में इलाज के अभाव में मरीजों को अन्य जिलों का रुख करना पड़ रहा है। सरकारी रिकार्ड में जिले से संबंधित 9 मरीज ब्लैक फंगस का शिकार हो चुके हैं, इनमें से 3 की मौत हो चुकी है।

इसके अलावा 5 पीड़ितों का इलाज अमृतसर और एक का इलाज जालंधर में चल रहा है। करीब 2 माह पहले सिविल अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन लगाने की बात चली थी। इसके लिए अस्पताल स्थित जनऔषधि में मशीन इंस्टॉल करने की बात कही थी। हालत यह है कि सिविल सर्जन डॉ. हरभजन मांडी को इस बारे में कोई जानकारी ही नहीं है कि अस्पताल में कोई सीटी स्कैन मशीन लगाई जानी है। ऐसे में सीटी स्कैन कराने वाले मरीजों को निजी सेंटरों का रुख करना पड़ रहा है। ब्लैक फंगस के इलाज में नाक-कान-गला रोग विशेषज्ञ की अहम भूमिका होती है। जिला अस्पताल में केवल एक विशेषज्ञ तैनात है, जो बाहरी शहर से यहां पहुंचता है। वह भी नाक, कान गला के इलाज की बजाय या तो कोविड में ड्यूटी करते हैं या ओपीडी में।

नेजल इंडोस्कोपी और एमआरआई की भी मशीन नहीं है अस्पताल में

ब्लैक फंगस के लक्षण होने पर नेजल इंडोस्कोपी मशीन से नाक की प्रारंभिक जांच की जाती है। जांच में कुछ निकलता है तो एमआरआई कराना होती है, लेकिन जिला अस्पताल में ये दोनों मशीनें नहीं हैं। ऐसे में मरीजों का इलाज हो पाना संभव ही नहीं है।

ब्लैक फंगस के मरीजों का जिले के बाहर चल रहा इलाज : सिविल सर्जन

मामले को लेकर सिविल सर्जन डॉ. हरभजन सिंह का कहना है कि जिले में ब्लैक फंगस के टैस्ट की कोई सुविधा नहीं है। सीटी स्कैन इंस्टॉल होने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। ब्लैक फंगस से पीड़ित जिले के मरीजों का बाहरी जिलों में इलाज चल रहा है।

1472 को लगा टीका

1472 लोगों को लगी वैक्सीन जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविंद मनचंदा ने बताया कि रविवार को जिले में कुल 1472 लोगों को वैक्सीन लगी। इनमें 18-44 आयु वर्ग के महज 120 लाभपात्री रहे। उधर, 45 से ऊपर वाले 1352 लाभपात्रियों ने टीका लगवाया। 18-44 आयु वर्ग रिपोर्ट अनुसार गुरदासपुर में 50, फतेहगढ़ चूड़ियां में 20, बटाला में 40 व बहरामपुर में 10 लाभपात्रियों ने कोरोना इंजेक्शन लगवाया। उधर, 45 से ऊपर वालों में गुरदासपुर में 20, फतेहगढ़ चूड़ियां में 252, ध्यानपुर में 88, नौशहरा मज्जा सिंह में 176, बटाला में 70, भाम में 190, रणजीत बाग में 20, भुल्लर में 230, बहरामपुर में 129, दोरांगला में 57 और काहनूवान में 120 लोगों ने टीका लगवाया।

खबरें और भी हैं...