नेशनल डॉक्टर्स-डे / डॉ. अजय अबरोल ने कोरोना महामारी के दौरान गुरदासपुर के सिविल अस्पताल के लिए तैयार करवाया वेंटिलेटर युक्त आईसीयू

सिविल में बनाए आईसीयू की डीसी मोहम्मद इश्फाक को जानकारी देते डॉ. अजय अबरोल। (फाइल फोटो)  सिविल में बनाए आईसीयू की डीसी मोहम्मद इश्फाक को जानकारी देते डॉ. अजय अबरोल। (फाइल फोटो) 
X
सिविल में बनाए आईसीयू की डीसी मोहम्मद इश्फाक को जानकारी देते डॉ. अजय अबरोल। (फाइल फोटो) सिविल में बनाए आईसीयू की डीसी मोहम्मद इश्फाक को जानकारी देते डॉ. अजय अबरोल। (फाइल फोटो) 

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

गुरदासपुर. एक जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स-डे है। धरती के ‘भगवान’ कहे जाने वाले डॉक्टर जी-जान से दूसरों की सेवा में लगे हैं। खुद और परिवार की चिंता के बगैर दिन-रात काम कर रहे हैं। ऐसी ही एक मिसाल शहर के निजी हास्पिटल अबरोल मेडिकल सेंटर के डॉक्टर अजय अबरोल हैं, जोकि कोविड-19 में अपने स्टाफ के साथ सेवा निभा रहे है।

डॉक्टर अबरोल का कहना है कि मानवता की सेवा करना उनकी पहल में शामिल है। कोविड-19 के दौरान उनका स्टाफ दिन रात अपने काम में जुटा रहा, यहां तक कि उनका स्टाफ एक माह तक अपने घर भी नहीं गया और वह भी अपने स्टाफ के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं।

आपातकालीन स्थिति से निपटने को हैं तैयार

डॉक्टर अबरोल ने बताया कि जिले में कैसी भी स्थिति पैदा हो जाए वह जिला प्रशासन के साथ हमेशा खड़े रहे हैं। वहीं उनका स्टाफ हमेशा इमरजेंसी सेवाओं के लिए तैयार है। उन्होंने बताया कि आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए हास्पिटल में वेंटिलेटर सहित कई आधुनिक मशीनें लगाई गई हैं। उन्होंने बताया कि 200 बेड वाले सिविल अस्पताल में वेंटीलेटर युक्त आईसीयू की कमी थी।

इसे देखते हुए उन्होंने अपने खर्च पर शहर के सिविल हास्पिटल में वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बना कर दिया। यही नहीं उन्होंने जिला प्रशासन को इसके रख-रखाव के लिए अपना स्टाफ उपलब्ध कराने की भी पेशकश कर रखी है। उनका मानना है कि मानवता की सेवी ही सबसे बड़ी सेवा है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना