स्मृति पुरस्कार:हरपिंदर राणा को मिला प्रिं. सुजान सिंह स्मृति पुरस्कार, कृषि मुद्दों पर डॉ. दविंदर शर्मा को डॉ. निर्मल सिंह आजाद स्मृति पुरस्कार दिया

गुरदासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डॉ. दविंदर शर्मा को डॉ. निर्मल सिंह आजाद स्मृति पुरस्कार से सम्मानित किया गया

पंजाबी कहानी के पितामह प्रिंसिपल सुजान सिंह यादगारी सम्मान समारोह राम सिंह दत्त हाल में हुआ। जिला साहित्य केंद्र की ओर से केंद्रीय लेखक सभा, प्रिंसिपल सुजान सिंह व डॉ. निर्मल सिंह के परिवार के सहयोग से कुलदीप पुरी, डॉ. कर्मजीत सिंह, डॉ. दविंदर शर्मा, दीप देवेंद्र सिंह, मंगल राम पासला, प्रो. कृपाल सिंह योगी, सुलखन सरहदी, डॉ. लेखराज, एसपी सिंह गोसल, तिरलोक सिंह, किरतमीत सिंह और मक्खन कोहाड़ के नेतृत्व में कराया गया।

पहला प्रिंसिपल सुजान सिंह स्मृति पुरस्कार कथाकार हरपिंदर राणा को दिया गया और दूसरा उत्साहजनक पुरस्कार मनमोहन सिंह बासरके को दिया गया। आर्थिक और कृषि मुद्दों पर प्रसिद्ध विश्लेषक डॉ. दविंदर शर्मा को डॉ. निर्मल सिंह आजाद स्मृति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। कृषि संकट और समाधान विषय पर डॉ. दविंदर शर्मा ने कहा कि हालांकि सरकार द्वारा तीन कृषि कानूनों को निरस्त कर दिए गए हैं, लेकिन एमएसपी की गारंटी के बिना किसान का जीवित रहना असंभव है। बीते दिनों शहीद हुए किसानों को याद किया गया और दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धा के फूल भेंट किए गए। इस दौरान कुलदीप सिंह, सुरिंदर कौर, बुआ सिंह सेखों, स्नेह इंदर, कंवलजीत कौर, गुरमीत सरन, अमरजीत संधू, सरबजीत सिंह संधू, अमरीक कौर, रजवंत कौर, शीतल सिंह गुन्नोपुरी, सुभाष दीवाना, तरसेम सिंह भंगू, सोहन सिंह, जतिंदर भनोट, गुरमीत बाजवा, बूटा राम आजाद, निशान सिंह, विजय अग्निहोत्री, सुच्चा सिंह पासनावल, प्रेम नाथ, शिव कुमार, प्रो. एसपी अरोड़ा, मंगलदीप, जोगिंदर पाल सैनी, रूप चंद शर्मा, अश्विनी कुमार आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...