पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सतर्कता जरूरी:जिले में 24 घंटे में 20 संक्रमित की हुई पहचान, अब भी 169 हैं एक्टिव मरीज

हाजीपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हाजीपुर के सदर अस्पताल में कोरोना का टीका लेते युवक। - Dainik Bhaskar
हाजीपुर के सदर अस्पताल में कोरोना का टीका लेते युवक।
  • एक दिन में 63 ने वायरस को हराया, रिकवर होने वालों की संख्या 19141 हो गई है
  • टीका के साथ-साथ लोगों का सजग होना भी कोरोना से दिला रही है निजात

कोरोना संक्रमण से राहत मिलती दिख रही है। सरकारी आंकड़े इस बात के संकेत दे रहे हैं कि संक्रमण मिलने की रफ्तार में लगातार कमी आ रही है। बीते 24 घंटे के अंदर जिले में कोरोना के 20 नए मरीज सामने आए। जो मरीज मिले हैं वह सभी हल्के लक्षण वाले हैं। सुखद बात यह है कि कोरोना से मौत नहीं हुई है।

रिकवरी रेट 2% और बढ़कर 98 पर चला गया है। पहली अप्रैल से 1 जून के बीच संक्रमण के कुल 19 हजार 13 मामले आए हैं। ठीक होने वाले मरीजों की बात करें तो एक दिन में 63 लोगों ने वायरस को हराया है। इसके साथ ही दूसरी लहर में रिकवर होने वालों की संख्या बढ़कर 19141 हो गई है। जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या महज 169 रह गई है। इनमें 158 से ज्यादा लोग होम आइसोलेशन में रहकर वायरस का मुकाबला कर रहे हैं।

कोरोना का संक्रमण दर निरंतर गिरता जा रहा

कोरोना संक्रमण काफी हद तक थम चुका है लेकिन अभी पहले से भी ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर पर नियंत्रण अभी की सावधानी पर ही निर्भर करता है। बीते 10 दिनों के आंकड़ों को देखा जाए तो नए मरीज मिलने और एवं एक्टिव केस में काफी तेजी से उतार चढ़ाव हुआ है। रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। वहीं हरिवंशपुर स्थित महिला आईटीआई में बनें कोविड केयर सेंटर में भी अब सन्नाटा की स्थिति है। अभी यहां मात्र 9 मरीज ही भर्ती हैं।

संक्रमण के रोकथाम के लिए तैयारी अब भी जारी

विभागीय आंकड़ा के अनुसार 29 मई से 5 जुलाई तक 216 नए मरीज मिले हैं। जबकि 506 रिकवर हुए हैं। जबकि कोरोना से मरने वालों की संख्या 154 हो चुका है। कोरोना की दूसरी लहर में बीते 26 मई से पहले प्रतिदिन 100 से ज्यादा पॉिजटिव मरीज मिले थे। इसके बाद 27 मई को 100 से कम मरीज मिलने लगे और 28 मई के बाद अचानक कमी आ गई। 28 मई को 68 मरीज मिले थे, इसके बाद 29 मई को 27, 30 मई को 32, 31 मई 24, 1 जून को 30, 2 जून 28, 3 जून 31, 4 जून 22 और 5 जून को 24 मरीज मिले हैं।

सीएस डॉ. इन्द्रदेव रंजन ने बताया कि विभाग ने डोर टू डोर सर्वे की, ताकि जो संक्रमित घरों में हैं, उन्हें तलाशा जा सके। खांसी, जुकाम, बुखार के रोगियों को घरों में आइडेंटिफाई कर उन्हें दवाइयां उपलब्ध करवाई। साथ ही जिन लोगों में कोरोना के लक्षण थे, उन्हें आइसोलेट करवाया गया, ताकि समय पर उनका उपचार हो सके। साथ ही बताया कि मई के पहले पखवारे में अस्पताल आने वाले अधिकांश रोगियों को ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ी है। प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग दिन-रात ऑक्सीजन सिलेंडरों की व्यवस्था में जुटा रहा। ऑक्सीजन की बढ़ती आवश्यकता को देखते हुए बी टाइप ऑक्सीजन सिलेंडर, डी टाइप सिलेंडर व ऑक्सीजन कन्संट्रेटर के साथ 200 पल्स ऑक्सीमीटर की व्यवस्था हुई थी।

खबरें और भी हैं...