लाइसेंस अनिवार्य:जिले में खाद्य पदार्थ बेचने वाली 15 हजार दुकानें, सिर्फ 3500 के पास लाइसेंस, साढ़े 11 हजार बिना लाइसेंस के चला रहे सालों से दुकानदारी

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 12 लाख से ऊपर सालाना कारोबार वालों को 2 हजार रुपए वाला लाइसेंस लेना जरूरी

सेहत विभाग ने बिना लाइसेंस खाने-पीने का सामान बेच रहे दुकानदारों पर शिकंजा कस दिया है। सेहत विभाग ऐसे दुकानदारों को नोटिस जारी कर एक हफ्ते में लाइसेंस लेने की हिदायतें जारी करने जा रहा है। अगर कोई दुकानदार एक हफ्ते में भी लाइसेंस नहीं लेता है तो उसकी दुकान सील कर दी जाएगी। पिछले दिनों चेकिंग में सामने आया था कि बड़ी गिनती में दुकानदारों ने अपनी रजिस्ट्रेशन विभाग के पास नहीं करवाई है और ज्यादातर दुकानदार बिना लाइसेंस ही खाने-पीने का सामान बेच और सप्लाई कर रहे हैं।

जिला सेहत विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक विभाग के पास महज 3500 के लगभग दुकानदारों का रिकॉर्ड मौजूद है, जिन्होंने सेहत विभाग से लाइसेंस लिए हुए हैं और 4500 के लगभग छोटी दुकानों व रेहड़ी वालों ने सामान बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाई है जबकि सेहत विभाग के मुताबिक पूरे जिले में कम से कम 15 हजार दुकानदार दुकानें चल रही हैं। इस तरह साढ़े 11 हजार के लगभग दुकानदारों ने अब तक न तो सेहत विभाग के पास रजिस्ट्रेशन करवाई है और न ही लाइसेंस प्राप्त किया है।

खबरें और भी हैं...