पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ओवरब्रिज के काम का शुरू होने से पहले ही विरोध:81 करोड़ से बनने वाले रेलवे ओवरब्रिज की लंबाई कम करने के लिए प्रदर्शन, ‘दुकानदार बचाओ’ के पोस्टर लगाए

होशियारपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ओवरब्रिज से प्रभावित होने वाले दुकानदार रेलवे ओवरब्रिज विरोध में पोस्टर लेकर प्रदर्शन करते हुए। -भास्कर - Dainik Bhaskar
ओवरब्रिज से प्रभावित होने वाले दुकानदार रेलवे ओवरब्रिज विरोध में पोस्टर लेकर प्रदर्शन करते हुए। -भास्कर
  • फगवाड़ा रोड पर बनने वाले 1184 मीटर लंबे ओवरब्रिज के काम का शुरू होने से पहले ही विरोध
  • मांग-अगर ओवरब्रिज बनाना ही है तो लंबाई कम की जाए, इससे 300 दुकानदार व 5 हजार आबादी का फायदा

फगवाड़ा रोड स्थित रेलवे फाटक पर बनने वाले रेलवे ओवरब्रिज का लोगों व दुकानदारों ने अब खुलकर विरोध करना शुरू कर दिया है। स्थानीय लोगों व दुकानदारों ने यहां ओवरब्रिज निर्माण को सरकारी पैसों की बर्बादी करार दिया है। इसके विरोध में रेलवे मंडी मार्केट, खेड़ा मार्केट, संतोख नगर मार्केट, दीप नगर मार्केट, माउंट एवेन्यू मार्केट के दुकानदारों व लोगों ने प्रदर्शन किया व शहर में कई जगह पोस्टर चिपका दिए, जिनमें पुल रुकवाओ-दुकानदार बचाओ के नारे लिखे हैं।

बता दें कि 1184 मीटर लंबा यह ओवरब्रिज प्रोजेक्ट सरकारी काॅलेज चौक से लेकर सब्जी मंडी के पहले गेट तक बनाया जाना है। इस पर 81 करोड़ रुपए का खर्च आने का अनुमान है। लोगों का कहना है कि इसके बनने से रेलवे मंडी स्कूल व एसडी काॅलेज में पढ़ने वाले छात्रों व उन्हें फ्लाईओवर से होकर जाना पड़ेगा। वहीं, ओवरब्रिज बनने से करीब 300 दुकानदार प्रभावित होंगे। दुकानदार व लोग प्रभावित न हों, इसके लिए ओवरब्रिज की लंबाई को कम किया जाए।

रोजाना गुजरती हैं 3 से 4 ट्रेनें
दुकानदारों का कहना है कि होशियारपुर स्टेशन से 3-4 ट्रेनें ही गुजरती हैं, जिससे लोगों को ज्यादा परेशानी नहीं होती व ज्यादा देर फाटक भी बंद नहीं रहता। उन्होंने कहा कि सरकार पहले पुल के बनने पर प्रभावित होने वाले दुकानदारों का दर्द जाने। बता दें कि फगवाड़ा रोड के आसपास 6 मोहल्लों के 5 हजार के करीब लोग रहते हैं। उनका कहना है कि इस रेलवे स्टेशन से लेकर बाइपास तक 4 छोटे रेलवे फाटक पड़ते हैं।

साल 2007 में किया था सर्वे
वहीं रेलवे मंडी निवासी हरीश खोसला ने कहा कि इस रेलवे फ्लाईओवर का सर्व 2007 में किया गया था तब शहर के बाहर चंडीगढ़-फगवाड़ा-जालंधर बाइपास नहीं था। उन्होंने कहा कि शहर के विस्तार को देखते हुए और आने वाले समय में रेलवे के विस्तार को देखते हुए बाईपास से पीछे रेलवे के पास अपनी कई गज जमीन खाली पड़ी है। वहां रेलवे को रेलवे स्टेशन बनाना चाहिए और इस लाइन को सिर्फ मालगाड़ियों के लिए इस्तेमाल करना चाहिए।

70 साल से कारोबार कर रहे दुकानदार बाेले-पुल बना तो रोटी पर संकट आ जाएगा

01 फगवाड़ा रोड पर करीब 50-60 साल से दुकानदारी कर रहे दुकानदारों ने कहा कि रेलवे ओवरब्रिज बनने से हमारी सारी दुकानदारी खत्म हो जाएगी। 70 साल से यहां करियाना दुकान करने वाले स्व. धर्म सिंह के बेटे पुष्कर ठाकुर ने कहा कि यदि पुल बनता है तो घर का खर्च चलाना मुश्किल हो जाएगा।

02 65 साल से टायरों का काम कर रहे संतोख सिंह ने बताया कि उनकी यहां पंक्चर की दुकानें हैं। यदि यहां पर ओवरब्रिज बनता है तो उनकी दुकानदारी पर इसका प्रभाव पड़ेगा। अगर ऊपर से काेई वाहन गिरेगा तो उनका ही नुकसान होगा। 03 करीब 50 साल से मिठाई की दुकान करने वाले हरनाम स्वीट्स शॉप के मालिक हरनाम सिंह ने बताया कि फ्लाईओवर बनता है, ताे ऊपर से सारी धूल उनकी दुकानदारी को चौपट कर देगी। इससे रोजी-रोटी का संकट आ जाएगा।

सांसद सोम प्रकाश से मिल चुके हैं दुकानदार
दुकानदारों ने कहा कि यह प्रोजेक्ट केंद्र सरकार का है। इसके चलते वे होशियारपुर के सांसद सोम प्रकाश को भी कई बार इस समस्या को लेकर मिल चुके हैं। उन्होंने कहा कि वे जल्द ही सांसद से मिलेंगे।

खबरें और भी हैं...