पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अच्छी खबर:पिछले सीजन में 434 लोगों ने नाड़ जलाई, इस बार अब तक 59 मामले

होशियारपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • खेतीबाड़ी विभाग की जागरूकता से नाड़ जलाने के मामलाें में गिरावट, किसानों को जागरूक करने के लिए लगाए 45 कैंप

इस सीजन में गेहूूं की नाड़ जलाने के मामलों में गिरावट आई है। जागरुकता के चलते ज्यादातर किसान नाड़ को आधुनिक मशीनरी से मिट्टी में मिला रहे हैं। खेतीबाड़ी विभाग होशियारपुर से प्राप्त जानकारी के मुताबिक पिछले सीजन में जिलेभर में किसानों द्वारा 434 जगह पर नाड़ को आग लगाने के मामले सामने आए थे जबकि इस सीजन में 3 मई तक जिले में महज 59 मामले सामने आए हैं। इस पर खेतीबाड़ी विभाग के अधिकारी राहत महसूस कर रहे हैं। जो 59 मामले पंजाब रिमोट सैंनसिंग सेंटर लुधियाना की तरफ से पकड़े गए हैं, उनमें सबसे ज्यादा मामले ब्लाॅक दसूहा से संबंधित हैं।

अकेले दसूहा ब्लाॅक में ही 38 अागजनी के मामले सामने आए हैं, जिनकी जांच खेतीबाड़ी विभाग के अधिकारी कर रहे हैं। दसूहा के बाद ब्लाॅक मुकेरियां में 16 जगह पर आग लगने के मामले सामने आए हैं। इसके अलावा गढ़शंकर में 2 व होशियारपुर में 3 मामले सामने आए हैं। इस सीजन में अब तक इस टांडा ब्लाक से कोई मामला सामने नहीं आया है।

दसूहा और मुकेरिया में मामले सबसे ज्यादा, टांडा उड़मुड़ में अब तक कोई मामला सामने नहीं आया

इस सीजन में किसी को जुर्माना नहीं और न लाल एंट्री की

पिछले सालों में खेतों में आग की घटनाएं बढ़ने पर सरकार और खेतीबाड़ी विभाग ने नजर रखने के लिए पंजाब रिमोट सैनसिंग सेंटर लुधियाना स्थापित किया। यहां से सेटेलाइट से पूरे पंजाब में नजर रखी जाती है। जहां अगजनी होती है, उसकी रिपोर्ट संबंधित जिले के खेतीबाड़ी दफ्तर को भेज दी जाती है। पिछले सालों के दौरान जिन किसानों ने खेत में आग लगाई उन्हें जुर्माना करने के साथ जमीन के रिकाॅर्ड में भी रेड एंट्री की जाती रहे, जिससे उन्हें सब्सिडी नहीं मिलती। लेकिन, इस सीजन में जिला होशियारपुर में अब तक किसी किसान को न तो जुर्माना हुआ और न ही जमीन के रिकॉर्ड में रेड एंट्री।

सबसे कम नाड़ जलाने के मामले में पिछले साल चौथे नंबर पर थे

जिला खेतीबाड़ी अधिकारी डाॅ. विनय कुमार ने अगजनी के मामले कम होने पर अपने विभाग के अधिकारियों की पीठ थपथपाई। कहा कि आग न लगाने के प्रति किसानों को जागरूक करने के लिए जिले के अलग-अलग ब्लाॅक में खेतीबाड़ी विभाग की तरफ से 45 जागरुकता कैंप लगाकर किसानों को जागरूक किया गया कि नाड़ को आग न लगाएं। पिछले साल जिन जिलों में कम आग लगाई गई थी​​​​​​​

इधर, टांडा में आग लगने से साढ़े 3 किल्ले में लगी गेहूं जली

टांडा उड़मुड़ मंगलवार सुबह 11 बजे के करीब अहियापुर में काटी गई गेहूं मंे आग लगने के कारण लगभग साढ़े तीन किल्ले गेहूं की फसल जल गई। जसवीर कौर ने बताया कि खेत में गेहूं की कटाई करके एक जगह पर भरियां भरकर रखी हुई थीं कि जब मशीन लगाकर गेहूं निकालने लगे तो अचानक गेहूं की फसल को आग लग गई। काफी जद्दोजहद के बाद आग पर काबू पाया गया।


खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें