पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सराहनीय:अध्यापक कल 1450 गांवों में लगाएंगे ‘किताबों का लंगर’

होशियारपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना काल में किताबें न खरीद सके सरकारी स्कूलों के बच्चों की सुविधा के लिए पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग की पहल

9 जुलाई को जिले के सभी गांवों में सरकारी स्कूलांे के अध्यापकों द्वारा किताबों का लंगर लगाया जाएगा। यह सुनकर आपको आश्चर्य होगा, लेकिन यह सही है। अब तक आपने धार्मिक स्थलों व समारोह में श्रद्धालुओं व लोगों को भरपेट भोजन खिलाने के लिए लंगर लगाने का नाम सुना होगा, लेकिन अब पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग ने बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए सभी गांवों में पुस्तकों का लाइब्रेरी लंगर लगाने का फैसला लिया है।

इसकी तैयारी के लिए बुधवार को ही शिक्षा विभाग की तरफ से बाकायदा अध्यापकों को प्रशिक्षण भी दिया गया ताकि लाइब्रेरी लंगर में कोई कमी न रह जाए। जिला शिक्षा अधिकारी गुरशरण सिंह ने पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के फैसले की सराहना की है। जिले में 1450 से अधिक गांव में किताबों का लंगर लगाया जाएगा।
बच्चों को किताबों से जोड़ने का मकसद
कोरोना काल में कई बच्चों को किताबें उपलब्ध नहीं हो पाईं। ऐसे में विभाग ने फैसला लिया है कि जब बच्चे स्कूल नहीं आ रहे तो क्यों न स्कूलों की लाइब्रेरी में पड़ी किताबें ही बच्चों के गांवों के सार्वजनिक स्थल पर पहुंचा दिया जाए, ताकि वे घर पर अपनी पढ़ाई कर सकें। विभाग का मकसद इसके जरिए बच्चों को किताबों से जोड़ने का है।

अध्यापकों को आज गांव के धार्मिक स्थलों से शुक्रवार को किताबें बांटने की मुनादी करवाने के आदेश
पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग ने इस योजना को सिरे चढ़ाने के लिए बुधवार को जिले के सभी सरकारी स्कूलों में तैनात हिंदी व पंजाबी के अध्यापकों के अलावा लाइब्रेरियन व सहायक लाइब्रेरियन को वीडियो कांफ्रेंसिंग में बताया कि 9 जुलाई को बच्चों के लिए लाइब्रेरी लंगर लगाए जाएंगे, जिसमें लाइब्रेरी बच्चों के गांव पहुंचेगी।

अध्यापक शुक्रवार को अपनी कार या वाहन में स्कूल से किताबें लेकर गांव के किसी सार्वजनिक स्थल पर पहुंचेंगे, जहां से बच्चे अपने मनपसंद पुस्तकें ले सकेंगे। अध्यापकों को कहा गया कि वीरवार को वह गांव के मंदिर व गुरुद्वारे में लगे लाउडस्पीकर द्वारा इस संबंधी मुनियादी करें कि शुक्रवार को आपके गांव में लाइब्रेरी लंगर स्कूली बच्चों के लिए एक तोहफा बनकर आ रहा है।
शिक्षा विभाग का प्रयास सराहनीय : गुरशरण सिंह
जिला शिक्षा अधिकारी गुरशरण सिंह ने पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग की इस योजना की सराहना की व कहा कि इससे बच्चों को लाभ पहुंचेगा। शिक्षा विभाग ने स्पष्ट कहा है कि बच्चों को स्कूल नहीं बुलाया जाएगा क्योंकि कोरोनावायरस के चलते वह कोई भी खतरा मोल नहीं लेना चाहता। इसमें बच्चे केवल अपनी क्लास की पुस्तकें ही नहीं और भी दूसरी शिक्षाप्रद पुस्तकें प्राप्त कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...