कार्रवाई / ग्रंथी न मर्यादा रखता था न सफाई, श्री गुरु ग्रंथ साहिब के स्वरूप को गुरुद्वारा शहीदां लद्देवाल में सुशोभित करवाया

The Granthi was neither dignified nor clean, the form of Sri Guru Granth Sahib was decorated in Gurudwara Shaheedan Laddewal
X
The Granthi was neither dignified nor clean, the form of Sri Guru Granth Sahib was decorated in Gurudwara Shaheedan Laddewal

  • लोगों की शिकायत पर गु़रुद्वारा डेरा किला बरून पहुंची तख्त श्री केसगढ़ साहिब की टीम
  • लोग बोले-2 स्वरूप चूहों ने कर दिए खराब, पता नहीं ग्रंथी ने कहां रखे
  • गांववालों का आरोप-गुरुद्वारा साहिब का ग्रंथी अमृतधारी नहीं, नशेड़ी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

होशियारपुर. होशियारपुर के गांव किला बरून स्थित गुरुद्वारा साहिब में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाश व गुरुद्वारा साहिब की खस्ताहालत पर इलाके की सिख जत्थेबंदियों ने संज्ञान लेते हुए उक्त मामला जत्थेदार तख्त श्री केसगढ़ के ध्यान में लाया था। इस पर कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को जत्थेदार तख्त श्री केसगढ़ साहिब द्वारा भेजी गई 5 सदस्यीय टीम ने गांव समेत उक्त गुरुद्वारा साहिब का दौरा कर गांववालों से बातचीत की और पूरे मामले की बारीकी से जांच की। टीम ने जांच के बाद गुरुद्वारा साहिब में प्रकाश श्री गुरु ग्रंथ साहिब के पावन स्वरूप को गांव के लोगों की मौजूदगी में सत्कार सहित उठाकर माहिलपुर के गुरुद्वारा शहीदां  लद्देवाल में सुशोभित करवा दिया। 

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सचिव एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने बताया कि तख्त श्री केसगढ़ साहिब के जत्थेदार साहिब को गांव के ही कुछ लोगों ने लिखित शिकायत दी थी कि गुरुद्वारा डेरा किला बरून (डेरा जोगिंदर सिंह) में जो ग्रंथी सेवा निभा रहा है, वह कथित तौर पर अमृतधारी नहीं है। वहीं, आरोप लगाया कि ग्रंथी नशा करता है व गुरुद्वारा साहिब में सफाई का प्रबंध न होने के कारण 2 स्वरूप को खराब कर दिया था।

वहीं,  गुरुद्वारा साहिब में जगह जगह गंदगी के ढेर व इमारत खस्ताहाल है। इस पर केसगढ़ साहिब से पहुंची 5 सदस्यीय टीम ने संत करमजीत सिंह, संत बलवीर सिंह टिब्बा साहिब, संत महावीर सिंह ताजेवाल, पंचायत सरपंच कुलदीप समेत गांव के लोगों की मौजूदगी में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के पावन स्वरूप को पूर्ण गुरु मर्यादा के तहत उक्त गुरुद्वारा से ले जाकर माहिलपुर के गुरुद्वारा शहीदां लद्देवाल में सुशोभित करवा दिया गया।

खराब 2 स्वरूप कहां रखे कोई नहीं बता रहा : एसजीपीसी मेंबर

पत्रकारों से बातचीत में एसजीपीसी मेंबर एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी और संत महावीर सिंह ताजेवाल ने बताया कि गांव के सरपंच कुलदीप, पंचायत मेंबर चरणजीत कौर, रेनू बाला समेत गांव के लोगों ने बताया था कि उनके गांव में गुरुद्वारा डेरा बाबा जोगिंदर सिंह में कोई भी रहत मर्यादा नहीं की जा रही। पाठी सिंह जो गुरुद्वारा साहिब में सेवा करता है नशे का आदी है। गुरुद्वारा साहिब में गुरु ग्रंथ साहिब के 3 सरूप थे, जिनमें 2 सरूप चूहों द्वारा पूरी तरह खराब कर दिए गए हैं। खराब किए सरूपों के बारे कोई भी नहीं बता रहा कि वो स्वरूप ग्रंथी ने कहां रखवाए हुए हैं।

34 कनाल में है डेरा, संभाल न होने के कारण खस्ताहाल

उक्त डेरा 34 कनाल में है, लेकिन संभाल न होने से गुरुद्वारा साहिब की इमारत खस्ताहाल है। टीम मेंबर ने बताया कि जब शिकायत पर टीम ने गुरुद्वारा साहिब में जाकर जांच की तो गुरुद्वारा साहिब गंदगी से भरा पड़ा था। यहां जिस कमरे में गुरु ग्रंथ साहिब का प्रकाश था, उसमें भी कोई सफाई नहीं थी। वहीं, प्रवासी मजदूर गुरुद्वारा साहिब में नंगे सिर लेटे हुए पाए गए। उन्होंने बताया कि टीम द्वारा पंचायत और लोगों कि सहमति से वहां से गुरु ग्रंथ साहिब के स्वरूप सतकार सहित उठा कर माहिलपुर के गुरुद्वारा साहिब में रखवा दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि डेरा प्रबंधक संत साधु सिंह कहारपुरी ने कहा कि अगर उक्त डेरे की सफाई और खस्ता इमारत को नए सिरे से बनवा डेरे में रहत मर्यादा कायम करवा देंगे तो यहां गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाश दोबारा रखवा दिए जाएंगे। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना