त्योहारी सीजन:सेहत टीम ने चेकिंग कर दूध व मिठाई के 14 सैंपल लिए; फंगस लगी 50 किलो मिठाइयां नष्ट की

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खराब मिठाई नष्ट करते हुए। - Dainik Bhaskar
खराब मिठाई नष्ट करते हुए।

त्योहारी सीजन में आप जो मिठाई आप खा रहे हैं वह कितनी शुद्ध है इसकी परख काे लेकर सेहत विभाग ने वीरवार को जिला सेहत अधिकारी डाॅ. लखबीर सिंह की अगुवाई में शहर की अलग-अलग दुकानों में मिठाई के सैंपल भरे व खराब मिठाई को नष्ट करवाया। विभाग की टीम ने शहर के अलग-अलग क्षेत्रों फगवाड़ा रोड, पुरहीरां, फतेहगढ़ रोड पर दूध और मिठाई के 14 सैंपल भरे।

इसमें से दूध के 8 और मिठाई के 6 सैंपल को जांच के लिए फूड टेस्टिंग लैब में भेजा है। सेहत विभाग की टीम ने 3 जगह उस मिठाई को नष्ट करवाया, जिसमें ज्यादा कलर था और फंगस लगी थी। ऐसी लगभग 50 किलो के करीब मिठाई नष्ट करवाई।

दुकानदारों को मिठाई पर बेस्ट बिफोर डेट लिखने के आदेश
डाॅ. लखबीर सिंह ने कहा कि आज तक किसी भी दुकानदार ने अपनी दुकान में रखी गई मिठाई को बनाने की अवधि और वो कब तक खाने के लायक है के प्रति ग्राहकों की जानकारी देने के लिए कोई डिस्पले नहीं किया है। अब आगे ऐसा नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि अब आने वाले दिनों में चेकिंग तेज की जाएगी और जिस दुकान में मिठाई के प्रति जानकारी डिस्पले नहीं की जाएगी उनके चलान किए जाएंगे।

मिठाइयों में कलर डालना सही नहीं
डीएचओ लखबीर सिंह ने कहा कि मिठाई में कलर बिल्कुल नहीं डालना चाहिए। कई सैंपल अनसेफ आ चुके हैं और वह कलर के कारण ही हैं। कलर से आंतड़ी का फोड़ा, कैंसर, किडनी फेल होने जैसी दिक्कत आ सकती है। सरकार की तरफ से जिन कलर को मान्यता दी है उसे बहुत कम दुकानदार प्रयोग कर रहे हैं और जो कर रहे हैं, उन्हें भी नहीं पता कि कितना कलर डालना है।

खबरें और भी हैं...