आस्था:हनुमान जी का बाणा (मुकुट) धारण करने वाले को 41 दिन जमीन पर सोना व ब्रह्मचार्य का पालन जरूरी

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बाणा धारण कर 2 दिन माता सीता को ढूंढेंगे 100 युवक

दशहरा पर्व पर पिछले कई साल से होशियारपुर शहर की हर गली-मोहल्ले से 100 से अधिक हनुमान जी के स्वरूप निकाले जाते हैं, जो अष्टमी से लेकर दशहरे तक लोगों के घर-घर जाकर माता सीता को ढूंढते हैं। दशहरे पर बाणा उतारने के बाद हरिद्वार में जाकर हवन-यज्ञ करवाने की परंपरा है, जिसे हनुमान बने युवक पूरा करते हैं।

बताते चलें कि हनुमान जी का मुकुट धारण करना आसान नहीं है। पहले पहल ये मुकुट 40 किलो तक के होते थे, वहीं, अब इनका वजन घटाकर 20 से 23 किलो तक रहता है। बाणा धारण करने वाले को 41 दिन जमीन पर सोना व पूरी तरह ब्रह्मचार्य का पालन करना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...