पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निकाय चुनाव के परिणाम घोषित:451 दिनों के बाद आज मिलेगा नगर काैंसिल अध्यक्ष की कुर्सी को वारिस

कोटकपूराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोटकपूरा के नगर काउंसिल अध्यक्ष की खाली पड़ी कुर्सी जिसे शुक्रवार को दावेदार नसीब होगा। - Dainik Bhaskar
कोटकपूरा के नगर काउंसिल अध्यक्ष की खाली पड़ी कुर्सी जिसे शुक्रवार को दावेदार नसीब होगा।
  • 17 फरवरी को चुनाव जीतने के आज पूरे चार महीने के बाद कोटकपूरा के 29 जनप्रतिनिधियों को मिलेगा पार्षद कहलवाने का अधिकार

करीब एक वर्ष दो महीने 25 दिन अर्थात कुल 451 दिनों के अंतराल के बाद शुक्रवार को नगर काउंसिल को अध्यक्ष पद का नियमित दावेदार मिलने के आसार बने हैं। निकाय विभाग के उच्च अधिकारियों से आए आदेशों के बाद आज नगर काउंसिल के कार्यकारी प्रबंधक एसडीएम अमरिंदर सिंह टिवाना ने 16 जून को पत्र जारी कर गत 17 फरवरी को घोषित निकाय चुनाव के परिणाम में विजेता रहे सभी 29 पार्षदों को 18 जून को नगर कांउसिल कार्यालय में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह व अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के चुनाव के कार्यक्रम में शामिल होने को आमंत्रित किया है।

ज्ञात रहे कि पंजाब सरकार ने इस बार नगर काउंसिल के अध्यक्ष पद पिछड़ी श्रेणी के प्रत्याशी के लिए आरक्षित किया है। इस संबंध में उच्च न्यायालय में दायर याचिका के आधार पर दिए गए पंजाब सरकार के स्पष्टीकरण के बाद इस पद के 29 में से तीन योग्य दावेदार हैं जिस में से दो कांग्रेस के एक अकाली दल की पार्षद है।

23 मार्च 2020 को पूर्व अध्यक्ष मोहन सिंह मत्ता का कार्यकाल पूरा होने के बाद से खाली है अध्यक्ष पद

राज्य की अन्य नगर काउंसिलों के साथ ही गत 14 फरवरी को कोटकपूरा नगर काउंसिल के चुनाव हुए थे जिसके परिणाम गत 17 फरवरी को घोषित किए गए। इस घोषित परिणाम में 29 सदस्यों वाली कोटकपूरा नगर काउंसिल में 21 पार्षद कांग्रेस के, तीन पार्षद अकाली दल के व पांच पार्षद निर्दलीय चुनाव जीते थे। चुनाव के बाद एक बात ताे तय थी कि आने वाले पांच वर्ष के लिए अध्यक्ष कांग्रेस का ही होगा व इसके लिए करीब पांच दिग्गज नेताओं ने अध्यक्ष पद पाने को अपनी-अपनी गोटियां बिठानी भी शुरू कर दी थी।

लेकिन इन पांचों पार्षदों के सपने पंजाब सरकार के अध्यक्ष पद की आरक्षण की नीति ने मिट्टी में मिला दिए। पंजाब सरकार के अध्यक्ष पद के आरक्षण के एक अप्रैल को जारी अध्यादेश में कोटकपूरा का अध्यक्ष पद बैकवर्ड क्लास के प्रत्याशी के लिए आरक्षित वार्ड से विजयी प्रत्याशी के लिए आरक्षित कर दिया। पिछले विधान सभा चुनावों के बाद से ही कोटकपूरा कांग्रेस दो धड़ों में बटी दिखाई दे रही है। एक पक्ष को पिछले विधान सभा चुनाव के कांग्रेसी प्रत्याशी भाई हरनिरपाल सिंह कुक्कू के पुत्र व खुद को हलका प्रभारी कहते राहुल सिंह सिद्धू का व दूसरे पक्ष को कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अजय पाल सिंह का संरक्षण प्राप्त है।

बेशक 29 सदस्यों वाली कोटकपूरा नगर कांउसिल में 21 पार्षद कांग्रेस के होने के कारण उनका अध्यक्ष पद पर कब्जा तय था व आरक्षण नीति के बीसी वर्ग के लिए आरक्षित कोटकपूरा के एकमात्र वार्ड 21 से कांग्रेस का प्रत्याशी बाबु राम का अध्यक्ष बनना तय था। लेकिन यहां कोटकपूरा कांग्रेस के आंतरिक मतभेदों ने अडंग़ा खड़ा कर दिया। वहीं, अध्यक्ष पद के दावेदार के नाम के साथ कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशू वीरवार को 11 बजे कोटकपूरा में आएंगे व इस कार्रवाई में शामिल होंगे।

खबरें और भी हैं...